शिर्डी के साँई बाबा जी की समाधी और बूटी वाड़ा मंदिर में दर्शनों एंव आरतियों का समय....

"ॐ श्री साँई राम जी
समाधी मंदिर के रोज़ाना के कार्यक्रम

मंदिर के कपाट खुलने का समय प्रात: 4:00 बजे

कांकड़ आरती प्रात: 4:30 बजे

मंगल स्नान प्रात: 5:00 बजे
छोटी आरती प्रात: 5:40 बजे

दर्शन प्रारम्भ प्रात: 6:00 बजे
अभिषेक प्रात: 9:00 बजे
मध्यान आरती दोपहर: 12:00 बजे
धूप आरती साँयकाल: 5:45 बजे
शेज आरती रात्री काल: 10:30 बजे

************************************

निर्देशित आरतियों के समय से आधा घंटा पह्ले से ले कर आधा घंटा बाद तक दर्शनों की कतारे रोक ली जाती है। यदि आप दर्शनों के लिये जा रहे है तो इन समयों को ध्यान में रखें।

************************************

Tuesday, 23 July 2019

जब से साईं मैंने तेरा नाम लिया है, तुमने मेरा हर काम किया है...

ॐ सांई राम



जब से साईं मैंने तेरा नाम लिया है
तुमने मेरा हर काम किया है...
जिंदगी में मैंने बड़े दुःख पाए
अब तो साईं जी हम तेरी शरण में आये
तेरी भक्ति का ऐसा जाम पिया है...
तुमने मेरा हर काम किया है...
जो कुछ किया है तुमने मेरे लिए
कौन करता है किसी के लिए
मेरी हर खुशी का इंतजाम किया है...
तुमने मेरा हर काम किया है...
सुख और दुःख से है नाता मेरा
तेरा नाम लेने से हल मिलता है
राज़ ये खुशी का मैंने जान लिया है..
तुमने मेरा हर काम किया है...


Monday, 22 July 2019

कभी कभी बाबा जी मुझे, सारी रात जगाते हैं,

ॐ सांई राम



कभी कभी बाबा जी
मुझे सारी रात जगाते हैं,
जागते हुए मुझे वे
कईं ख्वाब दिखाते हैं,
खवाबों में ही फिर
बाबा मुझे उलझाते हैं,
परीक्षा लेने को मेरी,
प्रलोभन दे कर ललचाते हैं,
दिल और दिमाग,
मुझे दो-धारी तलवार पर चलाते हैं,
तब, मेरे खूब उलझ जाने पर
बाबा मंद-मंद मुस्कराते हैं,
जाने कैसी कैसी लीला
करते हैं और दिखाते हैं,
अक्सर, बाबा जी
रातों में मुझे हंसाते हैं,
भोर होने पर जब
सब लोग जाग जाते हैं,
बाबा की आरती कर के
उन्हें स्नान कराते हैं,
पर, उस से पहले
बाबा जी लीला दिखाते हैं,
मेरी अखिओं से ओझल हो,
उनमे नींद भर जाते हैं,
ऐसे, चुपके से बाबा जी
मुझे सुला जाते हैं,
कल फिर से आने की
उम्मीद दे जाते हैं,
मेरे बाबा, मेरे साईं
मुझे अपने दर्शन दे जाते हैं ||


Sunday, 21 July 2019

नाज़ करूँ मैं खुद पर सांई, सब कुछ वार दूँ तुझ पर सांई।

ॐ सांई राम



कलियों में तू है फूलों में तू है,
सागर की हर एक लहरों में तू है,
कहीं भी जाऊँ बस तू ही तू है,
तुम्हारा ही नाम तुम्हारी ही पूजा,
तुम ही तुम हो कोई न दूजा,
हमें रास्तों की ज़रूरत नहीं है,
हमें तेरे क़दमों के निशान मिल गए है ...


नाज़ करूँ मैं खुद पर सांई,
सब कुछ वार दूँ तुझ पर सांई,
जब से प्यार मिला तेरा,
सुंदर दीदार मिला तेरा,
सब कुछ पा लिया मैने सांई,
दिल गद गद हो गया मेरा,
हे सांई,पाया दीदार जब से तेरा,
और कुछ रही ना इस मन की चाह,
सांई मैं दूँ सब कुछ तुझ पर वार,
किया तूने हम पतितो का उद्धार,
परमेश्वर, तेरे इस रूप को मेरा बारमबार.....
नमस्कार...   नमस्कार...   नमस्कार...  

Saturday, 20 July 2019

साईं जी का द्वारा स्वर्ग से प्यारा

ॐ सांई राम




सब की फरियादें सुनते साईं,
दे के फूल कांटे चुनते साईं,
डुबो को देते साईं किनारा,
साईं जी का द्वारा स्वर्ग से प्यारा
तेरी महिमा है अपरम्पार,
तुने जग में बांटा प्यार,
तेरी नज़र में,
कोई न बेसहारा,
साईं जी का द्वारा है स्वर्ग से प्यारा,
साईं जी की शिर्डी तो है,
पावन धाम लगा रहे मेला यहां,
सुबह और शाम,


मन्दिर, मस्जिद और लगे कभी गुरुद्वारा,
साईं जी का द्वारा स्वर्ग से प्यारा,
साईं जी का द्वारा स्वर्ग से प्यारा ||

Friday, 19 July 2019

बाबा यह मानव नहीं, लगता कोई पीर, अवतारी मुझको लगे, चाहे वेश फकीर"

ॐ सांई राम



"सटका मार ज़मीन पर
पानी रहे बहाए,
चिमटा गाढ़ ज़मीन पर,
अग्नि भी ले आये,
बाबा यह मानव नहीं,
लगता कोई पीर,
अवतारी मुझको लगे,
चाहे वेश फकीर"


एक छोटी बच्ची बाबा के साथ जा रही थी.
पुल पर पानी बहुत तेज़ी से बह रहा था,
बाबा बोले, घबराओ मत मेरा हाथ पकड़ लो.
बच्ची ने कहा, नहीं बाबा आप मेरा हाथ पकड़ लो.
बाबा ने मुस्कुरा कर कहा, दोनों में क्या फरक है?
बच्ची ने कहा, अगर.... मै आपका हाथ पकडू
और अचानक कुछ हो जाये तो शायद
मै आपका हाथ छोड़ दूँगी,
लेकिन अगर आप मेरा हाथ पकड़ेंगे,
तो मै जानती हूँ की चाहे कुछ भी हो जाये
आप मेरा हाथ कभी नही छोड़ेंगे!
ॐ साईं नमो: नमः
शिर्डी साईं नमो: नमः
जय जय साईं नमो: नमः
सद्गुरु साईं नमो: नमः

Thursday, 18 July 2019

श्री साई सच्चरित्र - अध्याय 7

ॐ सांई राम


आप सभी को शिर्डी के साईं बाबा ग्रुप की और से साईं-वार की हार्दिक शुभ कामनाएं |

हम प्रत्येक साईं-वार के दिन आप के समक्ष बाबा जी की जीवनी पर आधारित श्री साईं सच्चित्र का एक अध्याय प्रस्तुत करने के लिए श्री साईं जी से अनुमति चाहते है |

हमें आशा है की हमारा यह कदम घर घर तक श्री साईं सच्चित्र का सन्देश पंहुचा कर हमें सुख और शान्ति का अनुभव करवाएगा| किसी भी प्रकार की त्रुटी के लिए हम सर्वप्रथम श्री साईं चरणों में क्षमा याचना करते है|


श्री साई सच्चरित्र - अध्याय 7
------------------------------------

अदभुत अवतार । श्री साईबाबा की प्रकृति, उनकी यौगिक क्रयाएँ, उनकी सर्वव्यापकता, कुष्ठ रोगी की सेवा, खापर्डे के पुत्र प्लेग, पंढरपुर गमन, अदभुत अवतार
------------------------------------
श्री साईबाबा की समस्त यौगिक क्रियाओं में पारंगत थे । 6 प्रकार की क्रियाओं के तो वे पूर्ण ज्ञाता थे । 6 क्रियायें, जिनमें धौति ( एक 3 चौड़े व 22 ½ लम्बे कपड़े के भीगे हुए टुकड़े से पेट को स्वच्छ करना), खण्ड योग (अर्थात् अपने शरीर के अवयवों को पृथक-पृथक कर उन्हें पुनः पूर्ववत जोड़ना) और समाधि आदि भी सम्मिलित हैं । यदि कहा जाये कि वे हिन्दू थे तो आकृति से वे यवन-से प्रतीत होते थे । कोई भी यह निश्चयपूर्वक नहीं कह सकता था कि वे हिन्दू थे या यवन । वे हिन्दुओं का रामनवमी उत्सव यथाविधि मनाते थे और साथ ही मुसलमानों का चन्दनोत्सव भी । वे उत्सव में दंगलों को प्रोत्साहन तथा विजेताओं को पर्याप्त पुरस्कार देते थे । गोकुल अष्टमी को वे गोपाल-काला उत्सव भी बड़ी धूमधाम से मनाते थे । ईद के दिन वे मुसलमानों को मसजिदमें नमाज पढ़ने के लिये आमंत्रित किया करते थे । एक समय मुहर्रम के अवसर पर मुसलमानों ने मसजिद में ताजिये बनाने तथा कुछ दिन वहाँ रखकर फिर जुलूस बनाकर गाँव से निकालने का कार्यक्रम रचा । श्री साईबाबा ने केवल चार दिन ताजियों को वहाँ रखने दिया और बिना किसी राग-देष के पाँचवे दिन वहाँ से हटवा दिया ।

Wednesday, 17 July 2019

साईं तेरे हजारों नाम... कोई अल्लाह कहे कोई राम...

ॐ सांई राम



साईं तेरे हजारों नाम...
कोई अल्लाह कहे कोई राम...
कुरान में भी हो तुम साईं...
गीता में भी हो तुम साईं...
बाइबल में भी हो तुम साईं...
गुरुबानी में भी तुम साईं...
तेरी शिर्डी साईं पावन धाम...
कोई अल्लाह कहे कोई राम...
साईं तेरे हजारों नाम...
कोई अल्लाह कहे कोई राम...
मेरा साँई प्यारा साँई
सबसे न्यारा मेरा साँई

Tuesday, 16 July 2019

साईं हम पर कृपा करो, बालक हैं अनजान |

ॐ सांई राम
आप सभी को श्री गुरु पूर्णिमा उत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं।



साईं हम पर कृपा करो,
बालक हैं अनजान |
मंदबुद्धि हम जीव हैं,
हमको लो आन संभाल |
व्रत आपका कर रहे,
दो आशीष यह आन |
विध्न पड़े न इसमें कोई,
कृपा करो दीन दयाल |


साईं नाम जो मन से ध्याता,
अंतर्मन उसका मिट जाता
पूरन होते है सब काम,
मिलकर बोलों ॐ सांई राम ...

Monday, 15 July 2019

बाबा! जो तुम से मिला है, वही अंत तक रहेगा।

ॐ सांई राम



बाबा! जो तुम से मिला है,
वही अंत तक रहेगा।
कोई कुछ भी कर ले,
मुझसे मेरी श्रद्धा ना ले पाएगा
मेरे विचार मेरे भाव,
तुम्हारी कृपा को
मुझसे जुदा ना कर पाएगा।
जो तुम से मिला है
वही अंत तक रहेगा।
मैंने कुछ गरीबों को
बङी-बङी गाङियों में
तुम्हारे पास आते हुए देखा है
उन्हें तुच्छ चीज़ों के लिये
गिङगिङाते हुए देखा है
और कुछ कंगालों को
मुस्कुराते हुए देखा है
मैंने कुछ स्वस्थ लोगों को
व्यर्थ ही जीवन बिताते हुए देखा है
और कुछ अपंगों को प्रसन्न मुद्रा में
तुम्हारा छाता उठाते देखा है
मैं तो कहता हूँ तुम उन गरीबों को
और अमीर कर दो
लेकिन साथ ही उन्हे सुविचार दे दों
उन्हें अपना प्यार दे दों
क्योंकि जो तुम से मिला है
केवल वही अंत तक रहेगा ||

जय सांई राम!!!जय सांई राम!!!जय सांई राम!!!

Sunday, 14 July 2019

काम है मेरा साँई तुझे देखना, आगे जलवा दिखाना तेरा काम है

ॐ सांई राम



काम मेरा है चाहत करूं दीद की,
रुख़ से पर्दा हटाना तेरा काम है
काम है मेरा साँई तुझे देखना,
आगे जलवा दिखाना तेरा काम है
मुझको तेरे करम पे है पूरा यकीं,
मुझको ज़िन्दगी की कोई परवाह नही
काम है मेरा दर पे मैं जाऊँ मगर,
मुझको दर पे बुलाना तेरा काम है
भक्त का काम है कि वो सिमरन करे,
साँई का काम है खाली दामन भरे
काम मेरा है ज्योति जलाना तेरी,
सोयी किस्मत जगाना तेरा काम है



आ भी जाओ प्रभु दो घड़ी के लिये,
मेरा आज़ाद वक्ते सफ़र आ गया
काम मेरा है आवाज़ देना तुझे,
आगे आना न आना तेरा काम है
मैं खिलोना हूं हाथों का भगवन तेरे,
मेरी क्या ज़िन्दगी, मेरी औकात क्या
काम मेरा है बन बन के नित टूटना,
तोड़ना या बनाना तेरा काम है ||

Saturday, 13 July 2019

राम लिखा, रहमान लिखा, ईसा, रब, सत नाम लिखा

ॐ सांई राम



राम लिखा, रहमान लिखा, ईसा, रब, सत नाम लिखा
होड़ लगी जब सारी दुनिया, एक शब्द में लिखने की
सब ने सब दुनिया लिख डाली, मैंने साईं माँ का नाम लिखा ||


ॐ सांई राम
हे साई सदगुरु । भक्तों के कल्पतरु । हमारी आपसे प्रार्थना है कि आपके अभय चरणों की हमें कभी विस्मृति न हो । आपके श्री चरण कभी भी हमारी दृष्टि से ओझल न हों । हम इस जन्म-मृत्यु के चक्र से संसार में अधिक दुखी है । अब दयाकर इस चक्र से हमारा शीघ्र उद्घार कर दो । ...हमारी इन्द्रियाँ, जो विषय-पदार्थों की ओर आकर्षित हो रही है, उनकी बाहृ प्रवृत्ति से रक्षा कर, उन्हें अंतर्मुखी बना कर हमें आत्म-दर्शन के योग्य बना दो । जब तक हमारी इन्द्रयों की बहिमुर्खी प्रवृत्ति और चंचल मन पर अंकुश नहीं है, तब तक आत्मसाक्षात्कार की हमें कोई आशा नहीं है । हमारे पुत्र और मीत्र, कोई भी अन्त में हमारे काम न आयेंगे । हे साई । हमारे तो एकमात्र तुम्हीं हो, जो हमें मोक्ष और आनन्द प्रदान करोगे । हे प्रभु । हमारी तर्कवितर्क तथा अन्य कुप्रवृत्तियों को नष्ट कर दो । हमारी जिहृ सदैव तुम्हारे नामस्मरण का स्वाद लेती रहे । हे साई । हमारे अच्छे बुरे सब प्रकार के विचारों को नष्ट कर दो । प्रभु । कुछ ऐसा कर दो कि जिससे हमें अपने शरीर और गृह में आसक्ति न रहे । हमारा अहंकार सर्वथा निर्मूल हो जाय और हमें एकमात्र तुम्हारे ही नाम की स्मृति बनी रहे तथा शेष सबका विस्मरण हो जाय । हमारे मन की अशान्ति को दूर कर, उसे स्थिर और शान्त करो । हे साई । यदि तुम हमारे हाथ अपने हाथ में ले लोगे तो अज्ञानरुपी रात्रि का आवरण शीघ्र दूर हो जायेगा और हम तुम्हारे ज्ञान-प्रकाश में सुखपूर्वक विचरण करने लगेंगे । यह जो तुम्हारा लीलामृत पान करने का सौभाग्य हमें प्राप्त हुआ तथा जिसने हमें अखण्ड निद्रा से जागृत कर दिया है, यह तुम्हारी ही कृपा और हमारे गत जन्मों के शुभ कर्मों का ही फल है ।

For Donation

For donation of Fund/ Food/ Clothes (New/ Used), for needy people specially leprosy patients' society and for the marriage of orphan girls, as they are totally depended on us.

For Donations, Our bank Details are as follows :

A/c - Title -Shirdi Ke Sai Baba Group

A/c. No - 200003513754 / IFSC - INDB0000036

IndusInd Bank Ltd, N - 10 / 11, Sec - 18, Noida - 201301,

Gautam Budh Nagar, Uttar Pradesh. INDIA.