शिर्डी के साँई बाबा जी की समाधी और बूटी वाड़ा मंदिर में दर्शनों एंव आरतियों का समय....

"ॐ श्री साँई राम जी
समाधी मंदिर के रोज़ाना के कार्यक्रम

मंदिर के कपाट खुलने का समय प्रात: 4:00 बजे

कांकड़ आरती प्रात: 4:30 बजे

मंगल स्नान प्रात: 5:00 बजे
छोटी आरती प्रात: 5:40 बजे

दर्शन प्रारम्भ प्रात: 6:00 बजे
अभिषेक प्रात: 9:00 बजे
मध्यान आरती दोपहर: 12:00 बजे
धूप आरती साँयकाल: 7:00 बजे
शेज आरती रात्री काल: 10:30 बजे

************************************

निर्देशित आरतियों के समय से आधा घंटा पह्ले से ले कर आधा घंटा बाद तक दर्शनों की कतारे रोक ली जाती है। यदि आप दर्शनों के लिये जा रहे है तो इन समयों को ध्यान में रखें।

************************************

Friday, 20 August 2010

Aaj Ka Sai Sandesh,


ॐ सांई राम

बाबा की आशीष आप सब पर बनी रहे



साईं नाम मुद मंगलकारी,विघ्न हरे सब पातकहारी,


साईं नाम है सबसे ऊंचा,नाम शक्ती शुभ ज्ञान समूचा ।


**श्री सच्चीदानंद समर्थ सदगुरू सांई नाथ महाराज की जय**


जय साईं राम
आपने यह संदेश प्राप्‍त कि‍या क्‍योंकि‍ आपने इसमें सदस्यता ली है Google समूह ”ShirdiKeSaiBaba” समूह इस समूह को पोस्ट करने के लिए, निम्नलिखित पते पर ईमेल भेजें shirdikesaibaba@googlegroups.com इस समूह से सदस्यता समाप्‍ति‍ के लिए, यहां ईमेल भेजें shirdikesaibaba+unsubscribe@googlegroups.com अधिक विकल्पों के लिए, http://groups.google.com/group/shirdikesaibaba?hl=hi पर इस समूह में जाएँ



Monday, 16 August 2010

Aaj Ka Sai Sandesh

ॐ सांई राम

Today we are Celebrating
our 1st Anniversary

We have started our group last year on 16th August 2009
And
By the grace of lord Sai and support of all group members
we have turned now a year old group.


Thanking all of our group members from the bottoms of my heart for their supportive and encouraging relastionship with us.


May Baba bless us all....

आज बाबा जी की कृपा से हम अपनी पहली वर्षगाँठ मना रहे है, जैसा की हमने अपने इस ग्रुप की शुरुआत पिछले वर्ष १६ अगस्त २००९ में की थी


आप सभी के भरपूर सहयोग एवं आशीर्वाद से ही हम आज सफलता की पहली पायदान तक हाथ से हाथ मिला कर पहुंचे है...

हम तहे दिल से आप सभी का शुक्रिया अदा करते है और आशा करते है की आगे भी आप का सहयोग प्राप्त होता रहेगा.....


बाबा जी से प्रार्थना है की वह अपनी कृपा दृष्टि हम सभी पर बनाये रखे ..


ॐ साईं राम

दृष्टि के बदलते ही सृष्टि बदल जाती है, क्योंकि दृष्टि का परिवर्तन


मौलिक परिवर्तन है। अतः दृष्टि को बदलें सृष्टि को नहीं, दृष्टि का


परिवर्तन संभव है, सृष्टि का नहीं। दृष्टि को बदला जा सकता है, सृष्टि को


नहीं। हाँ, इतना जरूर है कि दृष्टि के परिवर्तन में सृष्टिभी बदल जाती


है। इसलिए तो सम्यकदृष्टि की दृष्टि में सभी कुछ सत्य होता है और मिथ्या


दृष्टि बुराइयों को देखता है। अच्छाइयाँ और बुराइयाँ हमारी दृष्टि पर


आधारित हैं।


दृष्टि दो प्रकार की होती है। एक गुणग्राही और दूसरी छिन्द्रान्वेषी


दृष्टि। गुणग्राही व्यक्ति खूबियों को और छिन्द्रान्वेषी खामियों को


देखता है। गुणग्राही कोयल को देखता है तो कहता है कि कितना प्यारा बोलती


है और छिन्द्रान्वेषी देखता है तो कहता है कि कितनी बदसूरत दिखती है।


गुणग्राही मोर को देखता है तो कहता है कि कितना सुंदर है और


छिन्द्रान्वेषी देखता है तो कहता है कि कितनी भद्दी आवाज है, कितने रुखे


पैर हैं। गुणग्राही गुलाब के पौधे को देखता है तो कहता है कि कैसा अद्भुत


सौंदर्य है। कितने सुंदर फूल खिले हैं और छिन्द्रान्वेषी देखता है तो


कहता है कि कितने तीखे काँटे हैं। इस पौधे में मात्र दृष्टि का फर्क है।


जो गुणों को देखता है वह बुराइयों को नहीं देखता है।






कबीर ने बहुत कोशिश की बुरे आदमी को खोजने की। गली-गली, गाँव-गाँव खोजते


रहे परंतु उन्हें कोई बुरा आदमी न मिला। मालूम है क्यों? क्योंकि कबीर


भले आदमी थे। भले आदमी को बुरा आदमी कैसे मिल सकता है?





कबीर ने कहा-


बुरा जो खोजन मैं चला, बुरा न मिलिया कोई,


जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय।






कबीर अपने आपको बुरा कह रहे हैं। यह एक अच्छे आदमी का परिचय है, क्योंकि


अच्छा आदमी स्वयं को बुरा और दूसरों को अच्छा कह सकता है। बुरे आदमी में


यह सामर्थ्य नहीं होती। वह तो आत्म प्रशंसक और परनिंदक होता है। वह कहता
है






भला जो खोजन मैं चला भला न मिला कोय,


जो दिल खोजा आपना मुझसे भला न कोय।






ध्यान रखना जिसकी निंदा-आलोचना करने की आदत हो गई है, दोष ढूँढने की आदत


पड़ गई, वे हजारों गुण होने पर भी दोष ढूँढ निकाल लेते हैं और जिनकी गुण


ग्रहण की प्रकृति है, वे हजार अवगुण होने पर भी गुण देख ही लेते हैं,


क्योंकि दुनिया में ऐसी कोई भीचीज नहीं है जो पूरी तरह से गुणसंपन्ना हो


या पूरी तरह से गुणहीन हो। एक न एक गुण या अवगुण सभी में होते हैं। मात्र


ग्रहणता की बात है कि आप क्या ग्रहण करते हैं गुण या अवगुण।






तुलसीदासजी ने कहा है -






जाकी रही भावना जैसी,


प्रभु मूरत देखी तिन तैसी।






अर्थात जिसकी जैसी दृष्टि होती है उसे वैसी ही मूरत नजर आती है।
Om Sai Ram


Sunday, 15 August 2010

Aaj Ka Sai Sandesh

ॐ सांई राम

SHIRDI KE SAI BABA GROUP (REGD.)
WISHING ALL SHREE SAI DEVOTEES
A VERY HAPPY INDEPENDENCE DAY
वन्दे मातरम्
भारत माँ के श्री चरणों में वंदन बारम्बार

जय सांई राम।।।


"जो मुझे अत्यधिक प्रेम करता है, वह सदैव मेरा दर्शन पाता है उसके लिए मेरे बिना सारा संसार ही सूना है। वह केवल मेरा ही लीलागान करता है। वह सतत् मेरा ही ध्यान करता है और सदैव मेरा ही नाम जपता है। जो पूर्ण रूप से मेरी ही शरण मे आ जाता है और सदा मेरा ही स्मरण करता है, अपने ऊपर उसका यह ऋण मै उसे मुक्ति (आत्मोपलब्धि) प्रदान करके चुका दूंगा। जो मेरा ही चिंतन करता है, और मेरा प्रेम ही जिसकी भूख-प्यास है और जो पहले मुझे अर्पित किये बिना कुछ भी नही खाता, मैं उसके अधीन हूं। जो इस प्रकार मेरी शरण मे आता है, बह मुझसे मिल कर उसी तरह एकाकार हो जाता है, जिस तरह नदियां समुंद्र से मिल कर तदाकार हो जाती है। अतएव महत्ता और अहंकार का सर्वथा परित्याग करके तुम्हें मेरे प्रति, जो तुम्हारे ह्रदय मे आसीन है, पूर्ण रूप से समर्पित हो जाना चाहिए"
Continued to message dated 14th August' 2010











Wishing a very Happy Indepence Day to
all Shree Sai devotees


आप सभी श्री साईं भक्तों को गणतंत्रा दिवस कि पूर्व संध्या पर हार्दिक शुभ कामनाएं

For Daily SAI SANDESH

Or to join our Group today

Click at our Group address :

http://groups.google.com/group/shirdikesaibaba/boxsubscribe?p=FixAddr&email

Current email address :

shirdikesaibaba@googlegroups.com

Visit us at :

http://shirdikesaibabaji.blogspot.com

Now also join our SMS group

for daily updates about our Google Group

Shirdi Ke Sai Baba Group (Regd.)

http://labs.google.co.in/smschannels/subscribe/SHIRDIKESAIBABAGROUP

or

Simply type in your create message box

ONSHIRDIKESAIBABAGROUP

and send it to

+919870807070

For Donation

For donation of Fund/ Food/ Clothes (New/ Used), for needy people specially leprosy patients' society and for the marriage of orphan girls, as they are totally depended on us.

For Donations, Our bank Details are as follows :

A/c - Title -Shirdi Ke Sai Baba Group

A/c. No - 200003513754 / IFSC - INDB0000036

IndusInd Bank Ltd, N - 10 / 11, Sec - 18, Noida - 201301,

Gautam Budh Nagar, Uttar Pradesh. INDIA.