शिर्डी के साँई बाबा जी की समाधी और बूटी वाड़ा मंदिर में दर्शनों एंव आरतियों का समय....

"ॐ श्री साँई राम जी
समाधी मंदिर के रोज़ाना के कार्यक्रम

मंदिर के कपाट खुलने का समय प्रात: 4:00 बजे

कांकड़ आरती प्रात: 4:30 बजे

मंगल स्नान प्रात: 5:00 बजे
छोटी आरती प्रात: 5:40 बजे

दर्शन प्रारम्भ प्रात: 6:00 बजे
अभिषेक प्रात: 9:00 बजे
मध्यान आरती दोपहर: 12:00 बजे
धूप आरती साँयकाल: 7:00 बजे
शेज आरती रात्री काल: 10:30 बजे

************************************

निर्देशित आरतियों के समय से आधा घंटा पह्ले से ले कर आधा घंटा बाद तक दर्शनों की कतारे रोक ली जाती है। यदि आप दर्शनों के लिये जा रहे है तो इन समयों को ध्यान में रखें।

************************************

Saturday, 9 January 2016

सच्चा रिश्ता साँई से जोड़ो

माँ-बाप, बहन-भाई का नाता
मनुष्य मृत्यु लोक में निभाता
सच्चा संबंधी हैं विश्व विधाता
बाकी सब यही हैं रह जाता
प्रभु से मिलने की खातिर ही
धरती पर रिश्तो का हल चलाता

झूठे बंधन और झूठे नाते
हम सभी सदा रहे निभाते
खेल मालिक का समझ ना पाते
भेजा जिसने जिस कर्म की खातिर
नया जीवन पाकर हम भूले जाते

नाव चले ना जीवन की
बिन साँई खेवनहार
और नहीं एक साँचा साँई
जग का तारणहार

सच्ची बात हैं सुन मेरे भाई
कर्म नेक कमा कहे मेरे साँई
जीवन को ना व्यर्थ टटोल
तन को ना माया से तोल
कर ले कमाई कुछ नेक
देखे सबका मालिक एक
बोली बोल सदा तू मीठी
तन जा मिले आखिर में मिट्टी

कहा से लाऊँ ऐसी स्याही
जो गुण तेरे लिखे मेरे साँई
नभ में भी कोई छोड़ तो होगा
तेरा गुणगान ना हमसे होगा
अनंत गुणों की हो तुम खान
कैसे भक्ति चढ़े परवान
अति लघु बुद्धि हमने पाई
लिखवाते हैं स्वयं श्री साँई

देना हो गर साँई तो मेघा सी दो भक्ति
कलम में दो गणु सम रचना की शक्ति
अनंत गुण तेरे गाता रहे यह तेरा दास
लता जी जैसी सुर में घोल दो मिठास

सांई चरणों में झुका रहे मेरा यह शीश...

ॐ सांई राम



यूँ ही एक दिन चलते-चलते सांई से हो गई मुलाकात। 
जब अचानक सांई सच्चरित्र की पाई एक सौगात। 
फिर सांई के विभिन्न रूपों के मिलने लगे उपहार। 
तब सांई ने बुलाया मुझको शिरडी भेज के तार। 
सांई सच्चरित्र ने मुझ पर अपना ऐसा जादू डाला। 
सांई नाम की दिन-रात मैं जपने लगा फिर माला। 
घर में गूँजने लगी हर वक्त सांई गान की धुन। 
मन के तार झूमने लगे सांई धुन को सुन। 
धीरे-धीरे सांई भक्ति का रंग गाढ़ा होने लगा। 
और सांई कथाओं की खुश्बूं में मन मेरा खोने लगा। 
सांई नाम के लिखे शब्दों पर मैं होने लगी फिदा। 
अब मेरे सांई को मुझसे कोई कर पाए गा ना जुदा। 
हर घङी मिलता रहे मुझे सांई का संतसंग। 

सांई मेरी ये साधना कभी ना होवे भंग। 
सांई चरणों में झुका रहे मेरा यह शीश। 
सांई मेरे प्राण हैं और सांई ही मेरे ईश। 
भेदभाव से दूर रहूँ,शुद्ध हो मेरे विचार। 
सांई ज्ञान की जीवन में बहती रहे ब्यार |

Friday, 8 January 2016

साईं की भक्ति से ख़ुद को संवार लो

ॐ सांई राम




मिल के कर लो
खुल के कर लो
साईं का गुनगान
साईं का गुनगान करेगा
हम सब का कल्याण



सुबह शाम साईं की आरती उतार लो
साईं की भक्ति से ख़ुद को संवार लो
मानो कहना नहीं तो वरना

रहेंगे भटकते प्राण


सच्चे मन से जो साईं दरबार में आया
जो भी कामना की है उसने वो पाया
साईं कृपा से हो जाते हैं
निर्धन भी धनवान
भक्तों की सुनते सदा मन की पुकार साईं
झोलियों में भरते सदा अपना प्यार साईं
हर सुख का दाता है जग में साईं का ध्यान
मिल के कर लो
खुल के कर लो
साईं का गुनगान
साईं का गुनगान करेगा
हम सब का कल्याण


Thursday, 7 January 2016

साँई जी की निराली मूरत

अजब तेरी सूरत देखी
गजब तेरी मूरत देखी
जब से साँई तुझे देखा
लगता है जैसे जन्नत देखी

एक तेरे मुखड़े की सादगी
लाती है दिल मे दिवानगी
कोई और सनम अब कैसे भाये
जिसे साँई के दर पनाह मिल जाये

तेरा था बस तेरा ही रहूँगा
दिल का हाल किस से कहूँगा
तू ही है पिता तू ही है माई
तू ही राम तू ही है कन्हाई
मेरे अंग संग आप सहाई
मेरे सदगुरू साँई साँई साँई

ना दुखी रहे कोई छाये खुशी की बहार
हर जन को मिल जाये साँई तेरा प्यार
ना भूख ना प्यास का रहे कोई भय
हर तरफ सब जग दिखे साँई मय

कृपा की आदत तुम्हारी
हौसला बढ़ाती है हमारी
बस एक मुस्कान तुम्हारी
जान निकाल देती है हमारी

वाह रे जादूगर देखी तेरी जादूगरी
ना गम हमारा ना खुशी रही हमारी
एक आह भी ना निकली हमारे मुख से
और तूने पल में विपदा हर ली हमारी

ना बंसी और ना ही धनुष उठाया
हर पीड़ा का हल तूने उदी बनाया
राम रहमान की बोली मिलीजुली
तुमने हर मजहब को नेक बताया
खून के रंग और पानी की प्यास का
दे कर वास्ता नया पाठ सिखलाया
अनोखी बानगी ने हमे दिवाना बनाया
सारा जग साँई रंग मे रंगा हुआ पाया

श्री साई सच्चरित्र - अध्याय 15

ॐ सांई राम


आप सभी को शिर्डी के साईं बाबा ग्रुप की और से साईं-वार की हार्दिक शुभ कामनाएं 
हम प्रत्येक साईं-वार के दिन आप के समक्ष बाबा जी की जीवनी पर आधारित श्री साईं सच्चित्र का एक अध्याय प्रस्तुत करने के लिए श्री साईं जी से अनुमति चाहते है


हमें आशा है की हमारा यह कदम घर घर तक श्री साईं सच्चित्र का सन्देश पंहुचा कर हमें सुख और  शान्ति का अनुभव करवाएगा
किसी भी प्रकार की त्रुटी के लिए हम सर्वप्रथम श्री साईं चरणों में क्षमा याचना करते है

श्री साई सच्चरित्र - अध्याय 15
-------------------------
नारदीय कीर्तन पदृति , श्री. चोलकर की शक्कररहित चाय , दो छिपकलियाँ ।
---------------------------------
पाठकों को स्मरण होगा कि छठें अध्याय के अनुसार शिरडी में राम नवमी उत्सव मनाया जाता था । यह कैसे प्रारम्भ हुआ और पहने वर्ष ही इस अवसर पर कीर्तन करने के लिये एक अच्छे हरिदास के मिलने में क्या-क्या कठिनाइयाँ हुई, इसका भी वर्णन वहाँ किया गया है । इस अध्याय में दासगणू की कीर्तन पदृति का वर्णन होगा ।
नारदीय कीर्तन पदृति
----------------------
बहुधा हरिदास कीर्तन करते समय एक लम्बा अंगरखा और पूरी पोशाक पहनते है । वे सिर पर फेंटा या साफा बाँधते है और एक लम्बा कोट तथा भीतर कमीज, कन्धे पर गमछा और सदैव की भाँति एक लम्बी धोती पहनते है । एक बार गाँव में कीर्तन के लिये जाते हुए दासगणू भी उपयुक्त रीति से सज-धज कर बाबा को प्रणाम रने पहुँचे । बाबा उन्हें देखते ही कहने लगे, अच्छा । दूल्हा राजा । इस प्रकार बनठन कर कहाँ जा रहे हो । उत्तर मिला कि कीर्तन के लिये । बाबा ने पूछा कि कोट, गमछा और फेंटे इन सब की आवश्यकता ही क्या है । इनकों अभी मेरे सामने ही उतारो । इस शरीर पर इन्हें धारण करने की कोई आवश्यकता नहीं है । दासगणू ने तुरन्त ही वस्त्र उतार कर बाबा के श्री चरणों पर रख दिये । फिर कीर्तन करते समय दासगणू ने इन वस्त्रों को कभी नहीं पहना । वे सदैव कमर से ऊपर अंग खुले रखकर हाथ में करताल औ गले में हार पहन कर ही कीर्तन किया करते थे । यह पदृति यघपि हरिदासों द्घारा अपनाई गई पदृति के अनुरुप नहीं है, परन्तु फिर भी शुदृ तथा पवित्र हैं । कीर्तन पदृति के जन्मदाता नारद मुनि कटि से ऊपर सिर तक कोई वस्त्र धारण नहीं करते थे । वे एक हाथ में वीणा ही लेकर हरि-कीर्तन करते हुए त्रैलोक्य में घूमते थे ।
श्री चोलकर की शक्कररहित चाय
-----------------------------






बाबा की कीर्ति पूना और अहमदनगर जिलों में फैल चुकी थी, परन्तु श्री नानासाहेब चाँदोरकर के व्यक्तिगत वार्ताँलाप तथा दासगणू के मधुर कीर्तन द्घारा बाबा की कीर्ति कोकण (बम्बई प्रांत) में भी फैल गई । इसका श्रेय केवल श्री दासगणू को ही है । भगवान् उन्हें सदैव सुखी रखे । उन्होंने अपने सुन्दर प्राकृतिक कीर्तन से बाबा को घर-घर पहुँचा दिया । श्रोताओं की रुचु प्रायः भिन्न-भिन्न प्रकार की होती है । किसी को हरिदासों की विदृता, किसी को भाव, किसी को गायन, तो किसी को चुटकुले तथा किसी को वेदान्त-विवेचन और किसी को उनकी मुख्य कथा रुचिकर प्रतीत होती है । परन्तु ऐसे बिरले ही है, जिनके हृदय में संत-कथा या कीर्तन सुनकर श्रद्घा और प्रेम उमड़ता हो । श्री दासगणू का कीर्तन श्रोताओं के हृदय पर स्थायी प्रभाव डालता था । एक ऐसी घटना नीचे दी जाती है ।

एक समय ठाणे के श्रीकौपीनेश्वर मन्दिर में श्री दासगणू कीर्तन और श्री साईबाबा का गुणगान कर रहे थे । श्रोताओं मे एक चोलकर नामक व्यक्ति, जो ठाणे के दीवानी न्यायालय में एक अस्थायी कर्मचारी था, भी वहाँ उपस्थित था । दासगणू का कीर्तन सुनकर वह बहुत प्रभावित हुआ और मन ही मन बाबा को नमन कर प्रार्थना करने लगा कि हे बाबा । मैं एक निर्धन व्यक्ति हूँ और अपने कुटुम्ब का भरण-पोशण भी भली भाँति करने में असमर्थ हूँ । यदि मै आपकी कृपा से विभागीय परीक्षा में उत्तीर्ण हो गया तो आपके श्री चरणों में उपस्थित होकर आपके निमित्त मिश्री का प्रसाद बाँटूँगा । भाग्य ने पल्टा खाया और चोलकर परीक्षा में उत्तीर्ण हो गया । उसकी नौकरी भी स्थायी हो गई । अब केवल संकल्प ही शेष रहा । शुभस्य शीघ्रम । श्री. चोलकर निर्धन तो था ही और उसका कुटुम्ब भी बड़ा था । अतः वह शिरडी यात्रा के लिये मार्ग-व्यय जुटाने में असमर्थ हुआ । ठाणे जिले में एक कहावत प्रचलित है कि नाठे घाट व सहाद्रि पर्वत श्रेणियाँ कोई भी सरलतापूर्वक पार कर सकता है, परन्तु गरीब को उंबर घाट (गृह-चक्कर) पार करना बड़ा ही कठिन होता हैं । श्री. चोलकर अपना संकल्प शीघ्रातिशीघ्र पूरा करने कि लिये उत्सुक था । उसने मितव्ययी बनकर, अपना खर्च घटाकर पैसा बचाने का निश्चय किया । इस कारण उसने बिना शक्कर की चाय पीना प्रारम्भ किया और इस तरह कुछ द्रव्य एकत्रित कर वह शिरडी पहुँचा । उसने बाबा का दर्शन कर उनके चरणों पर गिरकर नारियल भेंट किया तथा अपने संकल्पानुसार श्रद्घा से मिश्री वितरित की और बाबा से बोला कि आपके दर्शन से मेरे हृदय को अत्यंत प्रसन्नता हुई है । मेरी समस्त इच्छायें तो आपकी कृपादृष्टि से उसी दिन पूर्ण हो चुकी थी । मसजिद में श्री. चोलकर का आतिथ्य करने वाले श्री बापूसाहेब जोग भी वहीं उपस्थित थे । जब वे दोनों वहाँ से जाने लगे तो बाबा जोग से इस प्रकार कहने लगे कि अपने अतिथि को चाय के प्याले अच्छी तरह शक्कर मिलाकर देना । इन अर्थपूर्ण शब्दों को सुनकर श्री. चोलकर का हृदय भर आया और उसे बड़ा आश्चर्य हुआ । उनके नेत्रों से अश्रु-धाराएँ प्रवाहित होने लगी और वे प्रेम से विहृल होकर श्रीचरणों पर गिर पड़े । श्री. जोग को अधिक शक्कर सहित चाय के प्याले अतिथि को दो यह विचित्र आज्ञा सुनकर बड़ा कुतूहल हो रहा था कि यथार्थ में इसका अर्थ क्या है बाबा का उद्देश्य तो श्री. चोलकर के हृदय में केवल भक्ति का बीजारोपण करना ही था । बाबा ने उन्हें संकेत किया था कि वे शक्कर छोड़ने के गुप्त निश्चय से भली भाँति परिचित है ।
बाबा का यह कथा था कि यदि तुम श्रद्घापूर्वक मेरे सामने हाथ फैलाओगे तो मैं सदैव तुम्हारे साथ रहूँगा । यघपि मैं शरीर से तो यहाँ हू, परन्तु मुझे सात समुद्रों के पार भी घटित होने वाली घटनाओं का ज्ञान है । मैं तुम्हारे हृदय में विराजीत, तुम्हारे अन्तरस्थ ही हूँ । जिसका तुम्हारे तथा समस्त प्राणियों के हृददय में वास है, उसकी ही पूजा करो । धन्य और सौभाग्यशाली वही है, जो मेरे सर्वव्यापी स्वरुप से परिचित हैं । बाबा ने श्री. चोलकर को कितनी सुन्दर तथा महत्वपूर्ण शिक्षा प्रदान की ।

दो छिपकलियों का मिलन
----------------------





अब हम दो छोटी छिपकलियों की कथा के साथ ही यह अध्याय समाप्त करेंगे । एक बार बाबा मसजिद में बैठे थे कि उसी समय एक छिपकली चिकचिक करने लगी । कौतूहलवश एक भक्त ने बाबा से पूछा कि छिपकली के चिकचिकाने का क्या कोई विशेष अर्थ है । यह शुभ है या अशुभ । बाबा ने कहा कि इस छिपकली की बहन आज औरंगाबाद से यहाँ आने वाली है । इसलिये यह प्रसन्नता से फूली नहीं समा रही है । वह भक्त बाबा के शब्दों का अर्थ न समझ सका । इसलिये वह चुपचाप वहीं बैठा रहा । इसी समय औरंगाबाद से एक आदमी घोडे पर बाबा के दर्शनार्थ आया । वह तो आगे जाना चाहता था, परन्तु घोड़ा अधिक भूखा होने के कारण बढ़ता ही न था । तब उसने चना लाने को एक थैली निकाली और धूल झटकारने कि लिये उसे भूमि पर फटकारा तो उसमें से एक छिपकली निकली और सब के देखते-देखते ही वह दीवार पर चढ़ गई । बाबा ने प्रश्न करने वाले भक्त से ध्यानपूर्वक देखने को कहा । छिपकली तुरन्त ही गर्व से अपनी बहन के पास पहुँच गई थी । दोनों बहनें बहुत देर तक एक दूसरे से मिलीं और परस्पर चुंबन व आलिंगन कर चारों ओर घूमघूम कर प्रेमपूर्वक नाचने लगी । कहाँ शिरडी और कहाँ औरंगाबाद । किस प्रकार एक आदमी घोड़े पर सवार होकर, थैली में छिपकली को लिये हुए वहाँ पहुँचता है और बाबा को उन दो बहिनों की भेंट का पता कैसे चल जाता है-यह सब घटना बहुत आश्चर्यजनक है और बाबा की सर्वव्यापकता की घोतक है ।
शिक्षा
--------

जो कोई इस अध्याय का ध्यानपूर्वक पठन और मनन करेगा, साईकृपा से उसके समस्त कष्ट दूर हो जायेंगे और वह पूर्ण सुखी बनकर शांति को प्राप्त होगा ।

।। श्री सद्रगुरु साईनाथार्पणमस्तु । शुभं भवतु ।।

Wednesday, 6 January 2016

श्री साईं त्रिकालदर्शी सब जाने

ॐ सांई राम


साईं दयालं, साईं कृपालं,
साईं अनन्त, त्रिगुण स्वरूप |
साईं नाम को हृदय में धर ले
राह मुक्ति की निशिचित कर ले
वो त्रिकालदर्शी सब जाने
जाने न कोई भी बन्दा
और न ही संसार बस,
तू अपना कर्म करता चला जा
साईं नाम का श्रवण करता चला जा

ॐ श्री साईं राम
ॐ श्री साईं राम
ॐ श्री साईं राम 

Tuesday, 5 January 2016

ऐसी सुबह न आए न आए ऐसी शाम

ॐ साँई राम




ऐसी सुबह न आए न आए ऐसी शाम
जिस दिन जुबान पे मेरी आए न साई का नाम
मन मन्दिर में वास है तेरा , तेरी छवि बसाई,
प्यासी आत्मा बनके जोगी तेरे शरण में आया
तेरे ही चरणों में पाया मैंने यह विश्राम
ऐसी सुबह न आए न आए ऐसी शाम
जिस दिन जुबान पे मेरी आए न तेरा नाम



तेरी खोज में न जाने कितने युग मेरे बीते,
अंत में काम क्रोध सब हiरे वो बोले तुम जीते
मुक्त किया प्रभु तुने मुझको, है शत शत प्रणाम
ऐसी सुबह न आए न आए ऐसी शाम
जिस दिन जुबान पे मेरी आए न तेरा नाम

सर्वकला संपन तुम ही हो, ओ मेरे परमेश्वर
दर्शन देकर धन्य करो अब त्रिलोक्येश्वर
भवसागर से पार हो जायु लेकर तेरा नाम
ऐसी सुबह न आए न आए ऐसी शाम
जिस दिन जुबान पर मेरी आए न तेरा नाम......
साँई राम ... साँईं राम ...साँईं राम

Monday, 4 January 2016

साँई साँई जपते रहो

बरखा की दो बूंदे जब मिट्टी से मिलती हैं
सबसे अद्धभुत भीनी-भीनी खुशबू  महकती हैं
ठीक ऐसा ही अनुभव हमको भी होता हैं
जब साँई चरणों में माथा हमारा टिका होता हैं

ज्यूँ भटके वन में मृग पाने को महक कस्तूरी
त्यूँ यह बावला मन मंदिर में ढूंढे श्रध्दा सबूरी

भटके जंगल भटके चौबारे
फिरते रहे हम बस मारे मारे
जबसे पाया साँई कृपा का धन
कष्ट हो गये फुर्र सब हमारे

कथा कहु मैं अब क्या कोई
जागी हैं अब आत्मा सोई
सब खो कर मैंने तुझे पाया
तू बस अपना जग पराया

मुझमें ऐसी नहीं कोई भी बात खास
रखना बना कर अपने भक्तो का दास
खुशियाँ मांगू हरपल साँई भक्तो की
मुख से हरपल निकले यही अरदास

हम ठहरे बंजर जमीन के जैसे

पाये तेरी श्रध्दा के बीज हम कैसे

सबूरी की खाद भी डाल दो साँई

हो अच्छी फस्ल जो भक्ति की उगाई

साँई साँई बोले मेरा मन बन इक तारा
साँई को चाहा मैंने बस जग बिसराया
साँई वचनों का है बस यह ही तो मोल
रोते रोते आये साँई शरण ने हमें हँसाया

हर तरफ बस तू ही तू

करता भी तू हैं
करवाता भी तू हैं
तो फिर क्यों सजा
दिलवाता भी तू हैं
इस बिरह की अग्नि में
जलवाता भी तू हैं
बिछड़े हुओ को साँई
मिलवाता भी तू हैं
फकीर की झोली
भरवाता भी तू हैं
माँ के आँचल से दूध
पिलवाता भी तू हैं
इस धरती पर जीवन
दिलवाता भी तू हैं
हमें मोह से मुक्त
करवाता भी तू हैं
मोक्ष भी तू हैं
हानि लाभ भी तू हैं
कर्ज भी तू हैं
ब्याज भी तू हैं
सब कुछ तू ही हैं तो हमें
सताता भी तो तू ही हैं

मेरे साईं सा नहीं कोई दूजा इस जग में

ॐ सांई राम




मेरे साईं सा नहीं कोई दूजा इस जग में
जो हर ले सब का दुःख अपने में
जहाँ भी देखू अपने साईं को पाऊ
अपने मान-चित को बस साईं में समाऊ
हे मेरे साईं रहम नज़र कर दे
खुशिया मेरी झोली में भर दे

अब ना देर कर मेरे साईं
हाथ पसारे खड़ी हु साईं
तेरी एक रहम नज़र का इशारा
बदल देंगा मेरा जीवन सारा
मेरे साईं सा नहीं कोई दूजा इस जग में
जो हर ले सब का दुःख अपने में

Sunday, 3 January 2016

कल रात सपना यह मुझको आया

ॐ सांई राम


सुना है शिर्डी में एक फ़कीर आया था
सबके लिए खुशियों की सौग़ात लाया था
जन्म का उसके पता नहीं था
नीम के नीचे प्रकट हुआ था
महल्सापति बोले आओ साईं
तब से नाम पड़ा यह साईं

 
नीम  के पत्ते उसने मीठे बनाए
उसके रस से कष्ट मिटाए
बाइजाबाई को माँ बताया 
कोते पाटिल को पिता बताया
तात्या जी को भाई बनाया 
ऐसा परिवार था उसने पाया 
खंडहर को द्वारका बतलाया 
यही स्थान था उसको भाया 
और कहा यह मेरी माई 
तब से द्वारकामाई कहलाई  
द्वारकामाई में धूनी रमाई 
ध्यान से सुनो सब बहन-भाई
जो इस धूनी की उदी को खाता 
साईं बोल के तन पर लगाता 
कोई कष्ट न उस पर आता 
रोग छोड़ स्वस्थ हो जाता 
सब औषधियों का बाप यही है 
बाबा ने यही महिमा कही है 
पानी से थे दीप जलाए 
बनियों के घमंड तुडाए
कुछ लोग थे उस से जलते
दिन-रात उसका अहित सोचते 
उनको भी इंसान बनाया 
पग-पग पर चमत्कार दिखाया 
"श्रद्धा-सबूरी" का पाठ पढ़ाया 
सबका मालिक एक बताया 
शिर्डी को परिपूर्ण बनाया 
कल रात सपना यह मुझको आया 
वही लिखा जो साईं ने लिखवाया

For Donation

For donation of Fund/ Food/ Clothes (New/ Used), for needy people specially leprosy patients' society and for the marriage of orphan girls, as they are totally depended on us.

For Donations, Our bank Details are as follows :

A/c - Title -Shirdi Ke Sai Baba Group

A/c. No - 200003513754 / IFSC - INDB0000036

IndusInd Bank Ltd, N - 10 / 11, Sec - 18, Noida - 201301,

Gautam Budh Nagar, Uttar Pradesh. INDIA.