शिर्डी के साँई बाबा जी की समाधी और बूटी वाड़ा मंदिर में दर्शनों एंव आरतियों का समय....

"ॐ श्री साँई राम जी
समाधी मंदिर के रोज़ाना के कार्यक्रम

मंदिर के कपाट खुलने का समय प्रात: 4:00 बजे

कांकड़ आरती प्रात: 4:30 बजे

मंगल स्नान प्रात: 5:00 बजे
छोटी आरती प्रात: 5:40 बजे

दर्शन प्रारम्भ प्रात: 6:00 बजे
अभिषेक प्रात: 9:00 बजे
मध्यान आरती दोपहर: 12:00 बजे
धूप आरती साँयकाल: 7:00 बजे
शेज आरती रात्री काल: 10:30 बजे

************************************

निर्देशित आरतियों के समय से आधा घंटा पह्ले से ले कर आधा घंटा बाद तक दर्शनों की कतारे रोक ली जाती है। यदि आप दर्शनों के लिये जा रहे है तो इन समयों को ध्यान में रखें।

************************************

Saturday, 5 November 2011

साईं का गुनगान करेगा हम सब का कल्याण

 
 
 
 
सच्चे मन से जो साईं दरबार में आया
जो भी कामना की है उसने वो पाया
साईं कृपा से हो जाते हैं
निर्धन भी धनवान
भक्तों की सुनते सदा मन की पुकार साईं
झोलियों में भरते सदा अपना प्यार साईं
हर सुख का दाता है जग में साईं का ध्यान
मिल के कर लो
खुल के कर लो
साईं का गुनगान
साईं का गुनगान करेगा
हम सब का कल्याण
 

For Daily SAI SANDESH Click at our Group address : http://groups.google.com/group/shirdikesaibaba/boxsubscribe?p=FixAddr&email
Current email address :
shirdikesaibaba@googlegroups.com

Visit us at :
 
 
 For Daily Sai Sandesh Through SMS:
Type ON SHIRDIKESAIBABAGROUP
In your create message box
and send it to
+919870807070
  
You can also send your Name and Mobile No.
to +919810617373 from your mobile
for daily Sai Sandesh SMSs
through way2sms.com
 
For more details about SMS services please contact :
Anand Sai : +919810617373

Friday, 4 November 2011

शिरडी तीर्थ स्थान

ॐ सांई राम




शिरडी तीर्थ स्थान

साईं बाबा का निवास सथान होने के कारण शिरडी की प्रसिद्धि देश भर में फैली है और शिरडी को लोग तीर्थ स्थान मानते हैं। शिरडी में यात्रियों, दर्शकों और भक्तों के ठहरने के लिये एक ही स्थान था जिसका नाम “साठे का बाड़ा” था। हरि विनायक साठे ने नीम पेड़ के आसपास की जमीन खरीद कर वहाँ लोगों के ठहरने के लिये एक बाड़ा बनवा दिया। नीम वृक्ष को चबूतरे से घेर दिया। सन् 1909 ई. में नाना साहब चान्दोरकर के कहने पर बम्बई के सालिसिटर हरि सीताराम उर्फ काका साहब दीक्षित साईं बाबा के दर्शन के लिये शिरडी आये। वे एक बार लन्दन में ट्रेन से गिर गये थे जिससे उनके एक पैर में लंगड़ापन आ गया था। जब वे साईं बाबा से मिले तब उन्होंने कहा कि “पाँव के लँगड़ेपन की कोई बात नहीं है, मेरे मन के लंगड़ेपन को दूर कर दीजिये।” साईं बाबा की कृपा से काका साहब दीक्षित के पैर और मन दोनों का लंगड़ापन ठीक हो गया। काका साहब दीक्षित इतने प्रभावित हुये कि उन्होंने साईं बाबा के निकट शिरडी में ही रहने का निश्चय कर लिया। उन्होंने अपने रहने और दूसरे भक्तों के ठहरने के लिये एक बाड़ा शिरडी में बवनाया जो “दीक्षित बाड़ा” के नाम से जाना जाता है। नागपुर के धनी श्रीमान बापू साहब बूटी को साईं बाबा ने एक बार आँव की भयंकर बीमारी से और दूसरी बार हैजे से ठीक कर दिया। बापू साहब बूटी ने करोड़ों रुपये खर्च कर शिरडी में बाड़ा बनवा दिया। इस प्रकार शिरडी में तीन बाड़ा हो गये जहाँ आगन्तुक भक्त ठहरने लगे।
श्रीमान बूटी ने भव्य बाड़ा उसी स्थान पर बनवाया जहाँ पर साईं बाबा के परिश्रम से फूलों का बगीचा तैयार हो गया था। बापू साहब बूटी के उसी बाड़े में साईं बाबा का समाधि मन्दिर स्थित है जहाँ प्रतिदिन हजारों यात्री दर्शन करने के लिये आते हैं। साईं बाबा तो अन्तर्यामी थे। ऐसा लगता है कि उन्हें पहले से ही ज्ञात था कि उनका समाधि मन्दिर वहीं बनेगा। तभी तो पहले वहाँ उनके करकमलों से बगीचा लगा और बाद में वहीं उनकी समाधि बनी। अपनी मना समाधि के कुछ वर्ष पहले साईं बाबा ने कहा था, “मेरे संसार से चले जाने के बाद भी मैं अपने समाधि के माध्यम से बात करूँगा।” उनकी यह भविष्यवाणी सच हुई। वे आज भी अपने भक्तों को नये नये अनुभव कराते हैं।




आपने कभी साईं को देखा है ?
साईं गरीबो का ...........
साईं को पाना हैं या मिलना हैं तो किसी गरीब की मदद
कर के देखो वहां से साईं की झलक उस मददगार को होगी
यकीन न हो तो आजमा के देखो.............


For Daily SAI SANDESH Click at our Group address : http://groups.google.com/group/shirdikesaibaba/boxsubscribe?p=FixAddr&email
Current email address :
shirdikesaibaba@googlegroups.com

Visit us at :
 
 
 For Daily Sai Sandesh Through SMS:
Type ON SHIRDIKESAIBABAGROUP
In your create message box
and send it to
+919870807070
  
You can also send your Name and Mobile No.
to +919810617373 from your mobile
for daily Sai Sandesh SMSs
through way2sms.com
 
For more details about SMS services please contact :
Anand Sai : +919810617373

Thursday, 3 November 2011

Baba's darshan In Lamp


--------------------------
Dear Anand Bhaiya,

You along with your complete team are doing a wonderful job of reinstating the depleting faith of People in God & Hence Our SAI. May Baba Bless you all with all the happiness.

I have this habit of lighting the lamp in the morning & evening in front of Baba's picture. I learnt this somehow that Baba gets pleased by the person who lits a lamp (Diya) in front of Baba & shower his blessings on that person so I was doing it on a daily basis. I use to do it just before my morning prayers & at the time of my night prayers. One day I was feeling indifferent due to some current events in life and was eager like anything to have Baba's darshan. I have been praying to Baba to give me darshan in dreams & talk to me. When ever I use to request him, immediately some way or other a photo, ringtone or song use to feed my senses through unknown sources. Sometimes Baba's Poster in a Car or ringtone in some peron's cellphone. But still I had this urge to see him in a different form specially for me. 

Than one day when I lighted this lamp & started my night prayers, As soon as I finished my prayers, I saw that Lamp is burning indifferently & what I saw I could not believe, I could see Baba very clear in the Jyoti. I felt astonished, elated & was spellbound, and this way Sai Lived his promise " Who ever will remember me (Sai), will immediately get me". I have attached the two pics for all to see. This shows very clearly how much Sai Loves us. I am very lucky to have him in my life. What else one can wish for when he has Sai with him at each & every step of life. May Baba bless you all. He is here & everywhere, Just feel him & he will fill your soul with his presence.

Nothing is impossible in Sai's Kingdom, Have Faith & see for yourself!

Jai Sai Ram

Regards.
Sai Varun

श्री साई सच्चरित्र - अध्याय 30 & Also chapter 30 in English

ॐ सांई राम
आप सभी को शिर्डी के साईं बाबा ग्रुप की और से साईं-वार की हार्दिक शुभ कामनाएं
हम प्रत्येक साईं-वार के दिन आप के समक्ष बाबा जी की जीवनी पर आधारित श्री साईं सच्चित्र का एक अध्याय प्रस्तुत करने के लिए श्री साईं जी से अनुमति चाहते है
हमें आशा है की हमारा यह कदम घर घर तक श्री साईं सच्चित्र का सन्देश पंहुचा कर हमें सुख और शान्ति का अनुभव करवाएगा
किसी भी प्रकार की त्रुटी के लिए हम सर्वप्रथम श्री साईं चरणों में क्षमा याचना करते है...
 
श्री साई सच्चरित्र - अध्याय 30
..........................
शिरडी को खींचे गये भक्त
-----------------------

1. वणी के काका वैघ
2. खुशालचंद
3. बम्बई के रामलाल पंजाबी ।

इस अध्याय में बतलाया गया है कि तीन अन्य भक्त किस प्रकार शिरडी की ओर खींचे गये ।

प्राक्कथन
...........
जो बिना किसी कारण भक्तों पर स्नेह करने वाले दया के सागर है तथा निर्गुण होकर भी भक्तों के प्रेमवश ही जिन्होंने स्वेच्छापूर्वक मानव शरीर धारण किया, जो ऐसे भक्त और समस्त कष्ट दूर हो जाते है, ऐसे श्री साईनाथ महाराज को हम क्यों न नमन करें । भक्तों को आत्मदर्शन कराना ही सन्तों का प्रधान कार्य है । श्री साई, जो सन्त शिरोमणि है, उनका तो मुख्य ध्येय ही यही है । जो उनके श्री-चरणों की शरण में जाते है , उनके समस्त पाप नष्ट होकर निश्चित ही दिन-प्रतिदिन उनकी प्रगति होती है । उनके श्री-चरणों का स्मरण कर पवित्र स्थानों से भक्तगण शिरडी आते और उनके समीप बैठकर श्लोक पढ़कर गायत्री-मंत्र का जप किया करते थे । परन्तु जो निर्बल तथा सर्व प्रकार से दीन-हीन है और जो यह भी नहीं जानते कि भक्ति किसे कहते है, उनका तो केवल इतना ही विश्वास है कि अन्य सब लोग उन्हें असहाय छोड़कर उपेक्षा भले ही कर दे, परन्तु अनाथों के नाथ और प्रभु श्री साई मेरा कभी परित्याग न करेंगे । जिन पर वे कृपा करे, उन्हें प्रचण्ड शक्ति, नित्यानित्य में विवेक तथा ज्ञान सहज ही प्राप्त हो जाता है । वे अपने भक्तों की इच्छायें पूर्णतः जानकर उन्हें पूर्ण किया करते है, इसीलिये भक्तों को मनोवांछित फल की प्राप्ति हो जाया करती है और वे सदा कृतज्ञ बने रहते है । हम उन्हें साष्टांग प्रणाम कर प्रार्थना करते है कि वे हमारी त्रुटियों की ओर ध्यान न देकर हमें समस्त कष्टों से बचा लें । जो विपति-ग्रस्त प्राणी इस प्रकार श्री साई से प्रार्थना करता है, उनकी कृपा से उसे पूर्ण शान्ति तथा सुख-समृद्घि प्राप्त हती है । श्री हेमाडपंत कहते है कि हे मेरे प्यारे साई । तुम तो दया के सागर हो । यह तो तुम्हारी ही दया का फल है, जो आज यह साई सच्चरित्र भक्तों के समक्ष प्रस्तुत है, अन्यथा मुझमें इतनी योग्यता कहाँ थी, जो ऐसा कठिन कार्य करने का दुस्साहस भी कर सकता । जब पूर्ण उत्ततरदायित्व साई ने अपने ऊपर ही ले लिया तो हेमाडपंत को तिलमात्र भी भार प्रतीत न हुआ और न ही इसकी उन्हें चिन्ता ही हुई । श्री साई ने इस ग्रन्थ के रुप में उनकी सेवा स्वीकार कर ली । यह केवल उनके पूर्वजन्म के शुभ संस्कारों के कारण ही सम्भव हुआ, जजिसके लिये वे अपने को भाग्यशाली और कृतार्थ समझते है । नीचे लिखी कथा कपोलकल्पित नहीं, वरन् विशुदृ अमृततुल्य है । इसे जो हृदयंगम करेगा, उसे श्री साई की महानता और सर्वव्यापकता विदित हो जायेगी, परन्तु जो वादविवाद और आलोचना करना चाहते है, उन्हें इन कथाओं की ओर ध्यान देने की आवश्यकता भी नहीं है । यहाँ तर्क की नहीं, वरन् प्रगाढ़ प्रेम और भक्ति की अत्यन्त अपेक्षा है । विद्घान् भक्त तथा श्रद्घालु जन अथवा जो अपने को साई-पद-सेवक समझते है, उन्हें ही ये कथाएँ रुचिकर तथा शिक्षाप्रद प्रतीत होगी, अन्य लोगों के लिये तो वे निरी कपोल-कल्पनाएँ ही है । श्री साई के अंतरंग भक्तों को श्री साईलीलाएँ कल्पतरु के सदृश है । श्री साई-लीलारुपी अमृतपान करने से अज्ञानी जीवों को मोक्ष, गृहस्थाश्रमियों को सन्तोष तथा मुमुक्षुओं को एक उच्च साधन प्राप्त होता है । अब हम इस अध्याय की मूल कथा पर आते है ।

काका जी वैघ
...................
नासिक जिले के वणी ग्राम में काका जी वैघ नाम के एक व्यक्ति रहते थे । वे श्रीसप्तशृंगी देवी के मुख्य पुजारी थे । एक बार वे विपत्तियों में कुछ इस प्रकार ग्रसित हुए कि उनके चित्त की शांति भंग हो गई और वे बिलकुल निराश हो उअठे । एक दिन अति व्यथित होकर देवी के मंदिर में जाकर अन्तःकरण से वे प्रार्थना करने लगे कि हे देवि । हे दयामयी । मुझे कष्टों से शीघ्र मुक्त करो । उनकी प्रार्थना से देवी प्रसन्न हो गई और उसी रात्रि को उन्हें स्वप्न में बोली कि तू बाबा के पास जा, वहाँ तेरा मन सान्त और स्थिर हो जायेगा । बाबा का परिचय जानने को काका जी बड़े उत्सुक थे, परन्तु देवी से प्रश्न करने के पूर्व ही उनकी निद्रा भंग हो रगई । वे विचारने लगे कि ऐसे ये कौन से बाबा है, जिनकी ओर देवी ने मुझे संकेत किया है । कुछ देर विचार करने के पश्चात् वे इस निष्कर्ष पर पहुँचे कि सम्भव है कि वे त्र्यंबकेश्वर बाबा (शिव) ही हों । इसलिये वे पवित्र तीर्थ त्र्यंबक (नासिक) को गये और वहाँ रहकर दस दिन व्यतीत कियये । वे प्रातःकाल उठकर स्नानादि से निवृत्त हो, रुद्र मंत्र का जप कर, साथ ही साथ अभिषेक व अन्य धार्मिक कृत्य भी करने लगे । परन्तु उनका मन पूर्ववत् ही अशान्त बना रहा । तब फिर अपने घर लौटकर वे अति करुण स्वर में देवी की स्तुति करने लगे । उसी रात्रि में देवी ने पुनः स्वप्न में दर्शन देकर कहा कि तू व्यर्थ ही त्र्यम्बकेश्वर क्यो गया । बाबा से तो मेरा अभिप्राय था शिरडी के श्री साई समर्थ से । अब काका जी के समक्ष मुख्य प्रश्न यह उपस्थित हो गया कि वे कैसे और कब शिरडी जाकर बाबा के श्री दर्शन का लाभ उठाये । यथार्थ में यदि कोई व्यक्ति, किसी सन्त के दर्शने को आतुर हो तो केवल सन्त ही नही, भगवान् भी उसकी इच्छा पूर्ण कर देते है । वस्तुतः यिद पूछा जाय तो सन्त और अनन्त एक ही है और उनमें कोई भिन्नता नही । यदि कोई कहे कि मैं स्वतः ही अमुक सन्त के दर्शन को जाऊँगा तो इसे निरे दम्भ के अतिरिक्त और क्या कहा जा सकता है । सन्त की इचत्छा के विरुदृ उनके समीप कौन जाकर द्रर्शन ले सकता है । उनकी सत्त के बिना वृक्ष का एक पत्ता भी नहीं हिल सकता । जितनी तीव्र उत्कंठा संत दर्शन की होती, तदनुसार ही उसकी भक्ति और विश्वास में वृद्घि होती जायेगी और उतनी ही शीघ्रता से उनकी मनोकामना भी सफलतापूर्वक पू4ण होगी । जो निमंत्रण देता है, वह आदर आतिथ्य का प्रबन्ध भी करता है । काका जी के सम्बन्ध में सचमुच यही हुआ ।

शामा की मान्यता
...................
जब काका जी शिरडी यात्रा करने का विचार कर रहे थे, उसी समय उनके यहाँ एक अतिथि आया (जो शामा के अतिरिक्त और कोई न था) । शामा बाबा के अंतरंग भक्तों में से एक थे । वे ठीक इसी समय वणी में क्यों और कैसे आ पहुँचे, अब हम इस पर दृष्टि डालें । बाल्यावस्था में वे एक बार बहुत बीमार पड़ गये थे । उनकी माता ने अपनी कुलदेवी सप्तशृंगी से प्रार्थना की कि यदि मेरा पुत्र नीरोग हो जाये तो मैं उसे तुम्हारे चरणों पर लाकर डालूँगी । कुछ वर्षों के पश्चात् ही उनकी माता के स्तन में दाद हो गई । तब उन्होंने पुनः देवी से प्रार्थना की कि यदि मैं रोगमुक्त हो जाऊँ तो मैं तुम्हें चाँदी के दो स्तन चाढाऊँगी । पर ये दोनों वचन अधूरे ही रहे । परन्तु जब वे मृत्युशैया पर पड़ी ती तो उन्होंने अपने पुत्र शामा को समीप बुलाकर उन दोनों वचनों की स्मृति दिलाई तथा उन्हें पूर्ण करने का आश्वासन पाकर प्राण त्याग दिये । कुछ दिनों के पश्चात् वे अपनी यह प्रतिज्ञा भूल गये और इसे भूले पूरे तीस साल व्यतीत हो गये । तभी एक प्रसिदृ ज्योतिषी शिरडी आये और वहाँ लगभग एक मास ठहरे । श्री मान् बूटीसाहेब और अन्य लोगों को बतलाये उनके सभी भविष्य प्रायः सही निकले, जिनसे सब को पूर्ण सन्तोष था । शामा के लघुभ्राता बापाजी ने भी उनसे कुछ प्रश्न पूछे । तब ज्योतिषी ने उन्हें बताया कि तुम्हारे ज्येष्ठ भ्राता ने अपनी माता को मृत्युशैया पर जो वचन दिये थे, उनके अब तक पूर्ण न किये जाने के कारण देवी असन्तुष्ट होकर उन्हें कष्ट पहुँचा रही है । ज्योतिषी की बात सुनकर शामा को उन अपूर्ण वचनों की स्मृति हो आई । अब और विलम्ब करना खतरनाक समझकर उन्होंने सुनार को बुलाकर चाँदी के दो स्तन शीघ्र तैयार कराये और उन्हें मसजिद मं ले जाकर बाबा के समक्ष रख दिया तथा प्रणाम कर उन्हें स्वीकार कर वचनमुक्त करने की प्रार्थना की । शामा ने कहा कि मेरे लिये तो सप्तशृंगी देवी आप ही है, परन्तु बाबा ने साग्रह कहा कि तुम इन्हें स्वयं ले जाकर देवी के चरणों में अर्पित करो । बाबा की आज्ञा व उदी लेकर उन्होंने वणी को प्रस्थान कर दिया । पुजारी का घर पूछते-पूछते वे काका जी के पास जा पहुँचे । काका जी इस समय बाबा के दर्शनों को बड़े उत्सुक थे और ठीक ऐसे ही मौके पर शामा भी वहाँ पहुँच गये । वह संयोग भी कैसा विचित्र था । काका जी ने आगन्तुक से उनका परिचय प्राप्त कर पूछा कि आप कहाँ से पधार रहे है । जब उन्होंने सुना कि वे शिरडी से आ रहे तो वे एकदम प्रेमोन्मत हो शामा से लिपट गये और फिर दोनों का श्री साई लीलाओं पर वार्तालाप आरम्भ हो गया । अपने वचन संबंधी कृत्यों को पूर्ण कर वे काकाजी के साथ शिरडी लौट आये । काकाजी मसजिद पहुँच कर बाबा के श्रीचरणों से जा लिपटे । उनके नेत्रों से प्रेमाश्रुओं की धारा बहने लगी और उनका चित्त स्थिर हो गया । देवी के दृष्टांतानुसार जैसे ही उन्होंनें बाबा के दर्शन किये, उनके मन की अशांति तुरन्त नष्ट तहो गई और वे परम शीतलता का अनुभव करने लगे । वे विचार करने लगे कि कैसी अदभुत शक्ति है कि बिना कोई सम्भाषण या प्रश्नोत्तर किये अथवा आशीष पाये, दर्शन मात्र से ही अपार प्रसन्नता हो रही है । सचमुच में दर्शन का महत्व तो इसे ही कहते है । उनके तृषित नेत्र श्री साई-चरणों पर अटक गये और वे अपनी जिहा से एक शब्द भी न बोल सके । बाबा की अन्य लीलाएँ सुनकर उन्हें अपार आनन्द हुआ और वे पूर्णतः बाबा के शरणागत हो गये । सब चिन्ताओं और कष्टों को भूलकर वे परम आनन्दित हुए । उन्होंने वहाँ सुखपूर्वक बारह दिन व्यतीत किये और फिर बाबा की आज्ञा, आशीर्वाद तथा उदी प्राप्त कर अपने घर लौट गये ।

खुशालचन्द (राहातानिवासी)
.................
ऐसा कहते है कि प्रातःबेला में जो स्वप्न आता है, वह बहुधा जागृतावस्था में सत्य ही निकलता है । ठीक है, ऐसा ही होता होगा । परन्तु बाबा के सम्बन्ध में समय का ऐसा कोई प्रतिबन्ध नहीं था । ऐसा ही एक उदाहरण प्रस्तुत है – बाबा ने एक दिन तृतीय प्रहर काकासाहेब को ताँगा लेकर राहाता से खुशालचन्द को लाने के लिये भेजा, क्योंकि खुशालचन्द से उनकी कई दोनों से भेंट न हुई थी । राहाता पहुँच कर काकासाहेब ने यह सन्देश उन्हें सुना दिया । यह सन्देश सुनकर उन्हें महान् आश्चर्य हुआ और वे कहने लगे कि दोपहर को भोजन के उपरान्त थोड़ी देर को मुझे झपकी सी आ गई थी, तभी बाबा स्वप्न में आये और मुझे शीघ्र ही शिरडी आने को कहा । परन्तु घोडे का उचित प्रबन्ध न हो सकने के कारण मैंने अपने पुत्र को यह सूचना देने के लिये ही उनके पास भेजा था । जब वह गाँव की सीमा तक ही पहुँचा था, तभी आप सामने से ताँगे में आते दिखे । वे दोनों उस ताँगे में बैठकर शिरडी पहुँचे तथा बाबा से भेंटकर उन्हें बड़ी प्रसन्नता हुई । बाबा की यह लीला देख खुशालचन्द गदगद हो गये ।

बम्बई के रामलाल पंजाबी
....................
बम्बई के एक पंजाबी ब्राहमण श्री. रामलाला को बाबा ने स्वप्न में एक महन्त के वेश में दर्शन देकर शिरडी आने को कहा । उन्हें नाम ग्राम का कुछ भी पता चल न रहा था । उनको श्री-दर्शन करने की तीव्र उत्कंठा तो थी, परन्तु पता-ठिकाना ज्ञात न होने के कारण वे बड़े असमंजस में पड़े हुये थे । जो आमंत्रण देता है, वही आने का प्रबन्ध भी करता है और अन्त में हुआ भी वैसा ही । उसी दिन सन्ध्या समय जब वे सड़क पर टहल रहे थे तो उन्होंने एक दुकान पर बाबा का चित्र टंगा देखा । स्वप्न में उन्हें जिस आकृति वाले महन्त के दर्शन हुए थे, वे इस चित्र के समक्ष ही थे । पूछताछ करने पर उन्हें ज्ञात हुआ कि यह चित्र शिरडी के श्री साई समर्थ का है और तब उन्होंने शीघ्र ही शिरडी को प्रस्थान कर दिया तथा जीवनपर्यन्त शिरडी में ही निवास किया । इस प्रकार बाबा ने अपने भक्तों को अपने दर्शन के लिये शिरडी में बुलाया और उनकी लौकिक तथा पारलौकिक समस्त इच्छाँए पूर्ण की ।

।। श्री सद्रगुरु साईनाथार्पणमस्तु । शुभं भवतु ।।
 
*********************************************************************************
*********************************************************************************
 

Shree Sai Sachritra Chapter - 30

Drawn To Shirdi
(1) Kakaji Vaidya of Vani - (2) Punjabi Ramalal of Bombay.
In this Chapter the story of two more devotees that were drawn to Shirdi, is narrated.
Preliminary
Bow to the Kind Sai Who is the Abode of Mercy and Who is affectionate towards His devotees. By His mere darshan, He does away with their fear of this 'bhava' (samsar) and destroys their calamities. He was first Nirgun (formless), but on account of the devotion of His Bhaktas, He was obliged to take a form. To give liberation - self-realisation to the Bhaktas is the mission of the saints, and for Sai - the Chief of them, that mission is inevitable. Those who take refuge in His Feet have all their sins destroyed and their progress is certain. Remembering His Feet, Brahmins from holy places come to Him and read scriptures and chant the Gayatri mantra in His presence. We, who are weak and without any merits, do not know what Bhakti is but we know this much, that though all others may leave us, Sai won't forsake us. Those whom He favours get enormous strength, discrimination between the Unreal and the Real and knowledge.
Sai knows fully the desire of His devotees and fulfills the same. Hence they get what they want and are grateful. So we invoke Him and prostrate ourselves before Him. Forgetting all our faults let Him free us from all anxieties. He who being overcome with calamities remembers and prays Sai thus, will get his mind calmed and pacified through His grace.
This Sai - the ocean of mercy, says Hemadpant, favoured him and the result of this, is the present work - Sai-Satcharia. Otherwise what qualifications had he and who would undertake this enterprise? But as Sai took all the responsibility, Hemadpant felt no burden, nor any care about this. When the powerful Light of knowledge was there to inspire his speech and pen, why should he entertain any doubt or feel any anxiety? Sai got the service in the form of this book done by him; this is due to the accumulation of his merits in the past births and, therefore, he thinks himself fortunate and blessed.
The following story is not a mere tale, but pure nectar. He who drinks it will realise Sai's greatness and all-pervasiveness. Those who want to argue and criticise, should not go in for these stories. What is wanted here, is not discussion but unlimited love and devotion. Learned, devout and faithful believers or those, who consider themselves as servants of the Saints, will like and appreciate these stories, others will take them to be fables. The fortunate Bhaktas of Sai, will find the Sai-leelas as the Kalpataru (Wish-fulfilling Tree). Drinking this nectar of Sai-leelas, will give liberation to the ignorant Jivas, satisfaction to the house-holders and a sadhana to the aspirants. Now to the story of this Chapter.
Kakaji Vaidya
There lived in Vani, Nasik District, a man named Kakaji Vaidya. He was the priest of the Goodness Sapta-Shringi there. He was so much overwhelmed with adverse circumstances and calamities that he lost peace of mind and became quite restless. Under such circumstances one evening he went into the temple of the Goodess and prayed unto Her from the bottom of his heart and invoked Her aid to free him from anxeity. The Goddess was pleased with his devotion and the same night appeared to him in his dream and said to him, "You go to Baba and then your mind will become calm and composed". Kakaji was anxious to know from Her who that Baba was, but before he could get any explanation, he was awakened. Then he began to think as to who might be that Baba, to whom the Goodess has asked him to go. After some thinking, he resolved that this Baba might be 'Tryambakeshwar' (Lord Shiva). So he went to the holy place 'Tryambak' (Nasik District) and stayed there for ten days. During this period, he bathed early in the morning, chanted the 'Rudra' hymns, did the 'Abhishekam' (pouring unceasingly fresh cold water over the Pindi) and did other religious rites; but with all that, he was as restless as before. Then he returned to his place and again invoked the Goddess most pitifully. They night She again appeared in his dream and said - "Why did you go to Tryambakeshwar in vain? I mean by Baba - Shri Sai Samarth of Shirdi."
The question before Kakaji now was 'How and when to go to Shirdi and how to see Baba? If anybody is in real earnest to see a Saint, not only the Saint but God also, fulfills his wish. In fact the 'Sant' (Saint) and the 'Anant' (God) are one and the same; there is not the least difference between them. If anybody thinks that he will go himself and see a Saint, that will be a mere boast. Unless the Saint wills it, who is able to go and see him? Even the leaf of the tree won't move without his bidding. The more anxious a Bhakta is for the saint's visit, the more devout anf faithful he is, the more speedily and effectively is his wish satisfied to his heart's content. He who invites anybody for a visit, also arranges everything for his reception, and so it happened with Kakaji.
Shama's Vows
When Kakaji was thinking his visit to Shirdi, a guest came to him at his place to take him to Shirdi. He was no other than Shama, a very close and intimate devotee of Baba. How he came to Vani at this juncture, we shall just see. Shama was severely ill when he was very young and his mother had taken a vow to her family Goddess Sapta-Shringi at Vani, that if the son got well, she would bring and dedicate him at Her feet. Then after some years the mother herself suffered much from ring-worms on her breasts. At that time she again took another vow to her Deity that if she got all right, she would offer Her two silver breasts. These two vows remained unfulfilled. At her death-bed she called her son Shama to her and drew his attention to the vows and after taking a promise from him that he would fulfills them, she breathed her last. After some time, Shama quite forgot about these vows and thus 30 years elapsed. About this time a famous astrologer had come to Shirdi and stayed there for a month. His predictions in the case of Shriman Booty and others came true and everybody was satisfied. Shama's younger brother Bapaji consulted him and was told that his mother's vows, which his elder brother promised to fulfill at her death-bed, were not yet fulfilled; hence the Goddess was displeased with them and bringing troubles on them. Bapaji told this to his brother Shama who was then reminded of the unfulfilled vows. Thinking that any further delay would be dangerous, he called a goldsmith and got a pair of silver breast prepared. Then he went to the Masjid, prostrated himself before Baba and, placing before Him the two silver breath, requested Him to accept them and free him from the vows as He was to him his Sapta-Shringi Goddess. Then Baba insisted upon him to go himself to the temple of Sapta-Shringi and offer them in person at the feet of the Goddess. Then after taking Baba's permission and Udi, he left for Vani and searching for the priest came to Kakaji's house. Kakaji was then very anxious to visit Baba and Shama went there to see him at that very time. What a wonderful coincidence is this!
Kakaji asked him who he was and whence he had come, and on learning that he came from Shirdi, he at once embraced him. So overpowered was he with love! Then they talked about Sai-leelas and after finishing the rites of Shama's vows, they both started for Shirdi. On reaching the place, Kakaji went to the Masjid, and fell at Baba's Feet. His eyes were soon bedewed with tears, and his mind attained calmness. According to the vision of the Goddess, no sooner did he see Baba, that his mind lost all its restlessness and it became calm and composed. Kakaji began to think, in his mind, "What a wonderful power is this! Baba spoke nothing, there was no question and answer, no benediction pronounced; the mere darshana itself was so conducive to happiness; the restlessness of my mind disappeared by His mere darshan, consciousness of joy came upon me - this is what is called 'the greatness of darshan'." His vision was fixed on Sai's feet and he could utter no word. Hearing Baba's Leelas, his joy knew no bounds. He surrendered himself completely to Baba, forgot his anxiety and cares and got undiluted happiness. He lived happily there for twelve days and after taking Baba's leave, Udi and blessings returned home.
Khushalchand of Rahata
It is said that a dream, which we get in the small hours of the morning, generally comes out true in the walking state. This may be so, but regarding Baba's dreams there is no restriction of time. To quote an instance :- Baba told Kakasaheb Dixit one afternoon to go to Rahata and fetch Khushalchand to Shirdi, as He had not seen him since long. Kakasaheb accordingly took a tanga and went to Rahata. He saw Khushalchand and gave him Baba's message. Hearing it, Khushalchand was surprised and said that he was taking a nap after meals when Baba appeared in his dream and asked him to come to Shirdi immediately and that he was anxious to go. As he had no horse of his own nearby, he had sent his son to inform Baba; when his son was just out of the village-border, Dixit's tanga turned up. Dixit then said that he was sent specially to bring him. Then they both went in the tanga back to Shirdi. Khushalchand saw Baba and all were pleased. Seeing this Leela of Baba, Khushalchand was much moved.
Punjabi Ramalal of Bombay
Once a Punjabi Brahmin of Bombay named Ramalal got a dream in which Baba appeared and asked him to come to Shirdi. Baba appeared to him as a Mahant (Saint), but he did not know His whereabouts. He thought that he should go and see Him, but as he knew not His address, he did not know what to do. But He Who calls anybody for an interview makes the necessary arrangements for the same. The same happened in this case. The same afternoon when he was strolling in the streets, he saw a picture of Baba in a shop. The features of the Mahant, he saw in the dream, exactly tallied with those of the picture. Then making enquiries, he came to know that the picture was of Sai Baba of Shirdi. He then went soon after to Shirdi and stayed there till his death.
In this way Baba brought His devotees to Shirdi for darshan and satisfied their wants, material as well as spiritual.

Bow to Shri Sai - Peace be to all

सांई चरणों में झुका रहे मेरा यह शीश...

ॐ सांई राम


यूँ ही एक दिन चलते-चलते सांई से हो गई मुलाकात। 
जब अचानक सांई सच्चरित्र की पाई एक सौगात। 
फिर सांई के विभिन्न रूपों के मिलने लगे उपहार। 
तब सांई ने बुलाया मुझको शिरडी भेज के तार। 
सांई सच्चरित्र ने मुझ पर अपना ऐसा जादू डाला। 
सांई नाम की दिन-रात मैं जपने लगा फिर माला। 
घर में गूँजने लगी हर वक्त सांई गान की धुन। 
मन के तार झूमने लगे सांई धुन को सुन। 
धीरे-धीरे सांई भक्ति का रंग गाढ़ा होने लगा। 
और सांई कथाओं की खुश्बूं में मन मेरा खोने लगा। 
सांई नाम के लिखे शब्दों पर मैं होने लगी फिदा। 
अब मेरे सांई को मुझसे कोई कर पाए गा ना जुदा। 
हर घङी मिलता रहे मुझे सांई का संतसंग। 

सांई मेरी ये साधना कभी ना होवे भंग। 
सांई चरणों में झुका रहे मेरा यह शीश। 
सांई मेरे प्राण हैं और सांई ही मेरे ईश। 
भेदभाव से दूर रहूँ,शुद्ध हो मेरे विचार। 
सांई ज्ञान की जीवन में बहती रहे ब्यार |

Wednesday, 2 November 2011

साईं का गुनगान करेगा हम सब का कल्याण...

ॐ सांई राम


मिल के कर लो
खुल के कर लो
साईं का गुनगान
साईं का गुनगान करेगा
हम सब का कल्याण



सुबह शाम साईं की आरती उतार लो
साईं की भक्ति से ख़ुद को संवार लो
मानो कहना नहीं तो वरना

रहेंगे भटकते प्राण


सच्चे मन से जो साईं दरबार में आया
जो भी कामना की है उसने वो पाया
साईं कृपा से हो जाते हैं
निर्धन भी धनवान
भक्तों की सुनते सदा मन की पुकार साईं
झोलियों में भरते सदा अपना प्यार साईं
हर सुख का दाता है जग में साईं का ध्यान
मिल के कर लो
खुल के कर लो
साईं का गुनगान
साईं का गुनगान करेगा
हम सब का कल्याण



For Daily SAI SANDESH http://groups.google.com/group/shirdikesaibaba/boxsubscribe?p=FixAddr&email
Current email address :
shirdikesaibaba@googlegroups.com

Visit us at :
Click at our Group address :
 For Daily Sai Sandesh Through SMS:
Type ON SHIRDIKESAIBABAGROUP
In your create message box
and send it to
+919870807070
  
 
You can also send your Name and Mobile No.
to +919810617373 from your mobile
for daily Sai Sandesh SMSs
through way2sms.com
For more details about SMS services please contact :
Anand Sai : +919810617373

Tuesday, 1 November 2011

श्री साईं त्रिकालदर्शी सब जाने

ॐ सांई राम
साईं दयालं,
साईं कृपालं,
साईं अनन्त,
त्रिगुण स्वरूप |
साईं नाम को हृदय में धर ले

राह मुक्ति की निशिचित कर ले

वो त्रिकालदर्शी सब जाने

जाने न कोई भी बन्दा

और न ही संसार

बस,

तू अपना कर्म करता चला जा

साईं नाम का श्रवण करता चला जा
ॐ श्री साईं राम     ॐ श्री साईं राम     ॐ श्री साईं राम 

For Daily SAI SANDESH Click at our Group address : http://groups.google.com/group/shirdikesaibaba/boxsubscribe?p=FixAddr&email
Current email address :
shirdikesaibaba@googlegroups.com

Visit us at :
 For Daily Sai Sandesh Through SMS:
Type ON SHIRDIKESAIBABAGROUP
In your create message box
and send it to
+919870807070
  
 
You can also send your Name and Mobile No.
to +919810617373 from your mobile
for daily Sai Sandesh SMSs
through way2sms.com
For more details about SMS services please contact :
Anand Sai : +919810617373

Monday, 31 October 2011

ऐसी सुबह न आए न आए ऐसी शाम

ॐ सांई राम



ऐसी सुबह न आए न आए ऐसी शाम
जिस दिन जुबान पे मेरी आए न साई का नाम
मन मन्दिर में वास है तेरा , तेरी छवि बसाई,
प्यासी आत्मा बनके जोगी तेरे शरण में आया
तेरे ही चरणों में पाया मैंने यह विश्राम
ऐसी सुबह न आए न आए ऐसी शाम
जिस दिन जुबान पे मेरी आए न तेरा नाम



तेरी खोज में न जाने कितने युग मेरे बीते,
अंत में काम क्रोध सब हiरे वो बोले तुम जीते
मुक्त किया प्रभु तुने मुझको, है शत शत प्रणाम
ऐसी सुबह न आए न आए ऐसी शाम
जिस दिन जुबान पे मेरी आए न तेरा नाम

सर्व्कला संपन तुम्ही ही हो, औ मेरे परमेश्वर
दर्शन देकर धन्य करो अब त्रिलोक्येश्वर
भवसागर से पार हो जायु लेकर तेरा नाम
ऐसी सुबह न आए न आए ऐसी शाम
जिस दिन जुबान पर मेरी आए न तेरा नाम......
साई राम ... साईं राम ...साईं राम


For Daily SAI SANDESH Click at our Group address : http://groups.google.com/group/shirdikesaibaba/boxsubscribe?p=FixAddr&email
Current email address :
shirdikesaibaba@googlegroups.com

Visit us at :
 For Daily Sai Sandesh Through SMS:
Type ON SHIRDIKESAIBABAGROUP
In your create message box
and send it to
+919870807070
  
 
You can also send your Name and Mobile No.
to +919810617373 from your mobile
for daily Sai Sandesh SMSs
through way2sms.com
For more details about SMS services please contact :
Anand Sai : +919810617373

For Donation

For donation of Fund/ Food/ Clothes (New/ Used), for needy people specially leprosy patients' society and for the marriage of orphan girls, as they are totally depended on us.

For Donations, Our bank Details are as follows :

A/c - Title -Shirdi Ke Sai Baba Group

A/c. No - 200003513754 / IFSC - INDB0000036

IndusInd Bank Ltd, N - 10 / 11, Sec - 18, Noida - 201301,

Gautam Budh Nagar, Uttar Pradesh. INDIA.