शिर्डी के साँई बाबा जी की समाधी और बूटी वाड़ा मंदिर में दर्शनों एंव आरतियों का समय....

"ॐ श्री साँई राम जी
समाधी मंदिर के रोज़ाना के कार्यक्रम

मंदिर के कपाट खुलने का समय प्रात: 4:00 बजे

कांकड़ आरती प्रात: 4:30 बजे

मंगल स्नान प्रात: 5:00 बजे
छोटी आरती प्रात: 5:40 बजे

दर्शन प्रारम्भ प्रात: 6:00 बजे
अभिषेक प्रात: 9:00 बजे
मध्यान आरती दोपहर: 12:00 बजे
धूप आरती साँयकाल: 7:00 बजे
शेज आरती रात्री काल: 10:30 बजे

************************************

निर्देशित आरतियों के समय से आधा घंटा पह्ले से ले कर आधा घंटा बाद तक दर्शनों की कतारे रोक ली जाती है। यदि आप दर्शनों के लिये जा रहे है तो इन समयों को ध्यान में रखें।

************************************

Friday, 8 July 2011

हे प्रभु दया निधान तुम्हरी शरण पड़े॥

ॐ सांई राम

'तेरी किस्मत दा लिखा,
तेरे को कोई खो नई सकदा,
जे उस दी मेहर होवे ते,
तेनु ओ वी मिल जाए,
जो तेरा हो नई सकदा।'

उद्धार करो भगवान तुम्हरी शरण पड़े।
भव पार करो भगवान तुम्हरी शरण पड़े॥
कैसे तेरा नाम धियायें कैसे तुम्हरी लगन लगाये।
हृदय जगा दो ज्ञान तुम्हरी शरण पड़े॥
पंथ मतों की सुन सुन बातें द्वार तेरे तक पहुंच न पाते।
भटके बीच जहान तुम्हरी शरण पड़े॥
तू ही श्यामल कृष्ण मुरारी राम तू ही गणपति त्रिपुरारी।
तुम्ही बने हनुमान तुम्हरी शरण पड़े॥
ऐसी अन्तर ज्योति जगाना हम दीनों को शरण लगाना।
हे प्रभु दया निधान तुम्हरी शरण पड़े॥

**साईं राम**


For Daily SAI SANDESH

Click at our Group address :
http://groups.google.com/group/shirdikesaibaba/boxsubscribe?p=FixAddr&email
Current email address :
shirdikesaibaba@googlegroups.com

Visit us at :
 For Daily Sai Sandesh Through SMS:
Type ON SHIRDIKESAIBABAGROUP
In your create message box
and send it to
+919870807070

Please Note : For Donations

Our bank Details are as follows :

A/c-Title -Shirdi Ke Sai Baba Group
A/c.No-0036DD1582050
IFSC -INDB0000036
IndusInd Bank Ltd,
N-10/11,Sec-18,
Noida-201301. 
For more details Contact : Anand Sai  (Mobile)+919810617373
or mail us

Thursday, 7 July 2011

फूल खिलाये है तो खुशबू भी लाओ...

ॐ सांई राम
आपके चरणों में बसे प्राण है,
तेरे वचन मेरे गुरु समान है l
आपकी राहों पे चलता दास है,
ख़ुशी नहीं कोई जीवन उदास है l
आंसु की धारा में डूबता किनारा,
जिंदगी में दर्द, नहीं गुज़ारा l
लगाया चमन तो फूल खिलाओ,
फूल खिलाये है तो खुशबू भी लाओ l
कर दो इशारा तो बात बन जाये,
जो किस्मत में नहीं वो मिल जाये l
बीता ज़माना यह गा के फ़साना,
सरहदे ज़िन्दगी मौत का तराना l
देर तो हो गयी है अंधेर ना हो,
फ़िक्र मिले लकिन फरेब ना हो l
देके टालो या दामन बचा लो,
हिलने लगी रहनुमाई संभालो l
जय साईं राम l

For Daily SAI SANDESH Click at our Group address : http://groups.google.com/group/shirdikesaibaba/boxsubscribe?p=FixAddr&email
Current email address :
shirdikesaibaba@googlegroups.com

Visit us at :
 For Daily Sai Sandesh Through SMS:
Type ON SHIRDIKESAIBABAGROUP
In your create message box
and send it to
+919870807070

Please Note : For Donations

Our bank Details are as follows :

A/c-Title -Shirdi Ke Sai Baba Group
A/c.No-0036DD1582050
IFSC -INDB0000036
IndusInd Bank Ltd,
N-10/11,Sec-18,
Noida-201301. 
For more details Contact : Anand Sai  (Mobile)+919810617373
or mail us

Shree Sai Sachritra - Chapter 11

ॐ सांई राम

Chapter 11

Sai, as Sagun Brahman -- Dr. Pandit's Worship -- Haji Sidik Falke --Control over the Elements
Let us now, in this Chapter, describe the manifested (Sagun) Brahman Sai. How He was worshipped and how He controlled the elements.
Sai as Sagun Brahman
There are two aspects of God or Brahman : (1) the Unmanifested (Nirgun) and (2) the Manifested (Sagun). The Nirgun is formless, while the Sagun is with form, though both denote the same Brahman. Some prefer to worship the former, some the latter. As stated in the Gita (chapter XII) the worship of the latter is easy and preferable. As man has got a form (body, senses, etc.), it is natural and easy for him to worship the God with form. Our love and devotion do not develop unless we worship Sagun Brahman for a certain period of time, and as we advance; it leads us to the worship (meditation) of Nirgun Brahman. So let us start with Sagun worship. Image, altar, fire, light, sun, water, Brahman are the seven objects of worship, but Sadguru is better than all these. Let us, on this occasion, bring to our mind the form of Sai, Who was non-attachment Incarnate, and Who was a resting-place for His whole-hearted devotees. Our faith in His words is the seat of Asan; and our Sankalpa (determination to start and finish the Puja) is the abandonment of all our desires. Some say that Sai was a Bhagwad-bhakta (devotee of the Lord), others say He was a Maha-Bhagwat (a great devotee), but to us He is God Incarnate. He was extremely forgiving, never irritable, straight, soft, tolerant and content beyond comparison. Though He looked embodied (as having the form), He was really dis-embodied, emotionless, unattached and internally free. The Ganges on its way to the sea, cools and refreshes the creatures affected with heat, gives life to the crops and trees, and quenches the thirst of many. Similarly Saints (Souls) like Sai, while they live their own life, give solace and comfort to all. Lord Krishna has said that 'the Saint is My soul, My living image, I am He or He is My pure form (Being).' This in-describable Shakti or Power of God, known as Pure Existence, Knowledge and Bliss, incarnated in the form of Sai in Shirdi. The Shruti (Taitiriya Upanishad) describes Brahman as Bliss. This we read or hear daily in the books, but the devout people experienced this Brahman or Bliss in Shirdi. Baba, the support of all, required no prop or support (Asan) from anybody. He always used a piece of sack-cloth for His seat, which was covered with a small beautiful bed by His bhaktas and has a bolster placed by them, as a rest to His back. Baba respected the feelings of His devotees and allowed them to worship Him as they liked. Some waved Chamara or fans before Him, some played on musical instruments, some washed His hands and Feet, some others applied scent and chandan, some gave betel nut with leaves and other things, and some others offered naivedya. Though He looked like living in Shirdi, He was present everywhere. This all-pervasiveness of His way daily experienced by His devotees. Our humble prostration to this all-pervasive Sadguru.
Dr. Pandit's Worship
One Dr. Pandit, a friend of Tatyasaheb Noolkar, once came to Shirdi for Baba's darshana. After saluting Baba, he stayed in the Masjid for some time. Baba asked him to go to Dadabhat Kelkar. He went to Dadabhat, by whom he was well received. Then Dababhat left his house for Puja and Dr. Pandit accompanied him. Dadabhat worshipped Baba. Nobody until then dared to apply sandal paste to Baba's forehead. Only Mhalsapati used to apply it to His throat. But this simple-hearted devout, Dr. Pandit, took Dabadhat's dish containing Puja-materials and taking sandal-paste out of it, drew a Tripundra, i.e. there horizontal lines on Baba's forehead. To the surprise of all, Baba kept silent without uttering a single word. Then Dababhat that evening asked Baba, "How is it, that though You object to the sandal-paste being applied by others to Your forehead, but You allowed Dr. Pandit to do so now?" Baba replied that Dr. Pandit believed Him to be the same as his Guru, Raghunath Maharaja of Dhopeshwar, known as Kaka Puranik, and he applied the paste to His forehead, as he was doing to his Guru. Hence He could not object. On enquiry, Dr. Pandit told Dadabhat that he took Baba as his Guru Kaka Puranik, and hence he marked the Tripundra on Baba's forehead, as he did on his Guru's head.
Though Baba allowed the devotees to worship Him as they pleased, still sometimes, He acted in a strange way. Sometimes, He threw away the Puja-dish and was wrath Incarnate, then who could approach Him? Sometimes, He scolded the devotees, at times, He looked softer than wax, a statue of peace and forgiveness. Though He seemed to shake with anger and His red eyes rolled round and round, still, He was internally a stream of affection and motherly love. Immediately, He called out His devotees and said, that He ever angry with His devotees; that if mothers kicked their children and if the sea turned back the rivers, He would neglect the devotees' welfare: that He, the slave of His devotees, always stood by them, and responded to them, whenever they called upon Him, and that He always longed for their love.
Haji Sidik Falke
There was no knowing, when Baba would accept a devotee. That depended on His sweet will. Sidik Falke's story is to the point. One Mahomedan gentleman by name Sidik Falke of Kalyan, after making a pilgrimage to Mecca and Madina, came to Shirdi. He lived in a Chavadi, facing north, and sat in the open court-yard of the Masjid. For nine months, Baba ignored him, and did not allow him to step into the Masjid. Falke felt much disconsolate, and did not know what to do. Somebody advised him not to be disappointed; but to try to approach Baba through Shama (Madhavarao Deshpande), a close and intimate devotee of Baba. He told him that as they approach the God Shiva through his servant and devotee, Nandi, so Baba should be approached through Shama. Falke liked the idea and implored Shama to intercede for him. Shama agreed and on a convenient occasion spoke to Baba about him thus:- "Baba, why don't You allow the old Haji to step into the Masjid, while so many persons freely come and go, after taking Your darshan; why not bless him once?" Baba replied "Shama, you are too young to understand things. If the Fakir (Allah) does not allow, what can I do? Without His grace, who will climb into the masjid? Well, go to him and ask him whether he will come to the narrow footpath near the Barvi well." Shama went and returned with an affirmative answer. Again Baba said to Shama,"Ask him whether he is willing to pay me the sum of Rs. 40,000/- in four instalments." Shama went and returned with the answer that he was willing to pay even 40 lacs. Again Baba said to Shama- "We are going to butcher a goat in the Masjid, so ask him, whether he would like to have mutton, haunch or testicles of the goat." Shama returned with the answer that the Haji would be happy to receive a small crumb from Baba's kolamba (mudpot). Hearing this Baba got excited and with His hands threw away the earthen jars and kolamba and straightway advanced to the Haji and lifting His Kafni up with His hands said - "Why do you brag and fancy yourself great and pose yourself as an old Haji? Do you read Koran like this? You are proud of your pilgrimage to Macca, but you do not know Me." Being thus scolded, the Haji was confounded. Baba then went back to the Masjid, purchased a few baskets of mangoes and sent them to the Haji. Then again Baba went to the Haji and taking out Rs.55/- from His pocket, gave them to the Haji. From that time, Baba loved the Haji, invited him for meals and the Haji, thereafter, came into the Masjid whenever he liked. Baba gave him at times some rupees, and thus the Haji was enlisted in Baba's Darbar.
Baba's Control over the Elements
We shall close this Chapter after describing two incidents showing Baba's control over the elements. (1) Once at evening time, there was a terrible storm at Shirdi. The sky was overcast with thick black clouds. The winds began to blow forcibly; the clouds roared and the lighting began to flash, and the rains began to descend in torrents. In a short time, the whole place was flooded with water, All the creatures, birds, beasts and men got terribly frightened; and they all flocked to the Masjid for shelter. There are many local deities in Shirdi, but none of them came to their help. So they all prayed to Baba - their God, Who was fond of their devotion, to intercede and quell the storm. Baba was much moved. He came out and standing at the edge of the Masjid, addressed the storm in a loud and thunderous voice - "Stop, stop your fury and the calm." In a few minutes the rains subsided, the winds ceased to blow, and the storm came to a stop. Then the moon rose in the sky, and the people then went back home well-pleased, (2) On another occasion at the fire in the Dhuni began to burn brightly, its flames were seen to be reaching the rafters above. The people who were sitting in the Masjid did not know what to do. They dared not to ask Baba to pour water or do anything to quench the flames. But Baba soon came to realize, what was happening. He took up His Satka (short stick) and dashed it against a pillar in front, saying - "Get down, Be calm." At each stroke of the Satka, the flames began to lower and slow down; and in a few minutes the Dhuni became calm and normal.
This is our Sai, an Incarnation of God. He will bless any man who will prostrate and surrender himself to Him. He, who will read the stories of this Chapter daily with faith and devotion, will soon be free from all calamities; not only this, but always attached and devoted to Sai, he will get very soon God-vision: all his desires will be fulfilled and being ultimately desireless, he will attain the Supreme. Amen!
Bow to Shri Sai -- Peace be to all

श्री साई सच्चरित्र - अध्याय 11

 ॐ सांई रामआप सभी को शिर्डी के साईं बाबा ग्रुप की और से साईं-वार की हार्दिक शुभ कामनाएं

हम प्रत्येक साईं-वार के दिन आप के समक्ष बाबा जी की जीवनी पर आधारित श्री साईं सच्चित्र का एक अध्याय प्रस्तुत करने के लिए श्री साईं जी से अनुमति चाहते है

हमें आशा है की हमारा यह कदम घर घर तक श्री साईं सच्चित्र का सन्देश पंहुचा कर हमें सुख और शान्ति का अनुभव करवाएगा

किसी भी प्रकार की त्रुटी के लिए हम सर्वप्रथम श्री साईं चरणों में क्षमा याचना करते है

श्री साई सच्चरित्र - अध्याय 11
----------------------------------
सगुण ब्रहम श्री साईबाबा, डाँक्टर पंडित का पूजन, हाजी सिद्दीक फालके, तत्वों पर नियंत्रण ।
-----------------------------------
इस अध्याय में अब हम श्री साईबाबा के सगुण ब्रहम स्वरुप, उनका पूजन तथा तत्वनियंत्रण का वर्णन करेंगे ।

सगुण ब्रहम श्री साईबाबा
----------------------------
ब्रहमा के दो स्वरुप है – निर्गुण और सगुण । निर्गुण नराकार है और सगुण साकार है । यघरु वे एक ही ब्रहमा के दो रुप है, फर भी किसी को निर्गुण और किसी को सगुण उपासना में दिलचस्पी होती है, जैसा कि गीता के अध्याय 12 में वर्णन किया गया है । सगुण उपासना सरल और श्रेष्ठ है । मनुष्य स्वंय आकार (शरीर, इन्द्रय आदि) में है, इसीलिये उसे ईश्वर की साकार उपासना स्वभावताः ही सरल हैं । जब तक कुछ काल सगुण ब्रहमा की उपासना न की जाये, तब तक प्रेम और भक्ति में वृद्घि ही नहीं होती । सगुणोपासना में जैसे-जैसे हमारी प्रगति होती जाती है, हम निर्गुण ब्रहमा की ओर अग्रसर होते जाते हैं । इसलिये सगुण उपासना से ही श्री गणेश करना अति उत्तम है । मूर्ति, वेदी, अग्नि, प्रकाश, सूर्य, जल और ब्राहमण आदि सप्त उपासना की वस्तुएँ होते हुए भी, सदगुरु ही इन सभी में श्रेष्ठ हैं ।

श्री साई का स्वरुप आँखों के सम्मुख लाओ, जो वैराग्य की प्रत्यक्ष मूर्ति और अनन्य शरणागत भक्तों के आश्रयदाता है । उनके शब्दों में विश्वास लाना ही आसन और उनके पूजन का संकल्प करना ही समस्त इच्छाओं का त्याग हैं ।

कोई-कोई श्रीसाईबाबा की गणना भगवदभक्त अथवा एक महाभागवत (महान् भक्त) में करते थे या करते है । परन्तु हम लोगों के लिये तो वे ईश्वरावतार है । वे अत्यन्त क्षमाशील, शान्त, सरल और सन्तुष्ट थे, जिनकी कोई उपमा ही नहीं दी जा सकती । यघरि वे शरीरधारी थे, पर यथार्थ में निर्गुण, निराकार,अनन्त और नित्यमुक्त थे । गंगा नदी समुद्र की ओर जाती हुई मार्ग में ग्रीष्म से व्यथित अनेकों प्रगणियों को शीतलता पहुँचा कर आनन्दित करती, फसलों और वृक्षों को जीवन-दान देती और जिस प्रकार प्राणियों की क्षुधा शान्त करती है, उसी प्रकार श्री साई सन्त-जीवन व्यतीत करते हुए भी दूसरों को सान्त्वना और सुख पहुँचाते है । भगवान् श्रीकृष्ण ने कहा है संत ही मेरी आत्मा है । वे मेरी जीवित प्रतिमा और मेरे ही विशुद्घ रुप है । मैं सवयं वही हूँ । यह अवर्णनीय शक्तियाँ या ईश्वर की शक्ति, जो कि सत्, चित्त् और आनन्द हैं । शिरडी में साई रुप में अवर्तीण हुई थी । श्रुति (तैतिरीय उपनिषद्) में ब्रहमा को आनन्द कहा गया है । अभी तक यह विषय केवल पुस्तकों में पढ़ते और सुनते थे, परन्तु भक्तगण ने शिरडी में इस प्रकार का प्रत्यक्ष आनन्द पा लिया है । बाबा सब के आश्रयदाता थे, उन्हें किसी की सहायता की आवश्यकता न थी । उनके बैठने के लिये भक्तगण एक मुलायम आसन और एक बड़ा तकिया लगा देते थे । बाबा भक्तों के भावों का आदर करते और उनकी इच्छानुसार पूजनादि करने देने में किसी प्रकार की आपत्ति न करते थे । कोई उनके सामने चँवर डुलाते, कोई वाघ बजाते और कोई पादप्रक्षालन करते थे । कोई इत्र और चन्दन लगाते, कोई सुपारी, पान और अन्य वस्तुएँ भेंट करते और कोई नैवेघ ही अर्पित करते थे । यघपि ऐसा जान पड़ता था कि उनका निवासस्थान शिरडी में है, परन्तु वे तो सर्वव्यापक थे । इसका भक्तों ने नित्य प्रति अनुभव किया । ऐसे सर्वव्यापक गुरुदेव के चरणों में मेरा बार-बार नमस्कार हैं ।

डाँक्टर पंडित की भक्ति
-------------------------
एक बार श्री तात्या नूलकर के मित्र डाँक्टर पंडित बाबा के दर्शनार्थ शिरडी पधारे बाबा को प्रणाम कर वे मसजिद में कुछ देर तक बैठे । बाबा ने उन्हें श्री दादा भट केलकर के पास भेजा, जहाँ पर उनका अच्छा स्वागत हुआ । फिर दादा भट और डाँक्टर पंडित एक साथ पूजन के लिये मसजिद पहुँचे । दादा भट ने बाबा का पूजन किया । बाबा का पूजन तो प्रायः सभी किया करते थे, परन्तु अभी तक उनके शुभ मस्तक पर चन्दन लगाने का किसी ने भी साहस नहीं किया था । केवल एक म्हालसापति ही उनके गले में चन्दन लगाया करते थे । डाँक्टर पंडित ने पूजन की थाली में से चन्दन लेकर बाबा के मस्तक पर त्रिपुण्डाकार लगाया । लोगों ने महान् आश्चर्य से देघा कि बाबा ने एक शब्द भी नहीं कहा । सन्ध्या समय दादा भट ने बाबा से पूछा, क्या कारण है कि आर दूसरों को तो मस्तक पर चन्दन नहीं लगाने देते, परन्तु डाँक्टर पंडित को आपने कुछ भी नहीं कहा बाबा कहने लगे, डाँक्टर पंडित ने मुझे अपने गुरु श्री रघुनाथ महाराज धोपेश्वरकर, जो कि काका पुराणिक के नाम से प्रसिदृ है, के ही समान समझा और अपने गुरु को वे जिस प्रकार चन्दन लगाते थे, उसी भावना से उन्होंने मुझे चन्दन लगाया । तब मैं कैसे रोक सकता था । पुछने पर डाँक्टर पंडित ने दादा भट से कहा कि मैंने बाबा को अपने गुरु काका पुराणिक के समान ही डालकर उन्हें त्रिपुण्डाकार चन्दन लगाया है, जिस प्रकार मैं अपने गुरु को सदैव लगाया करता था ।
यघपु बाबा भक्तों को उनकी इच्छानुसार ही पूजन करने देते थे, परन्तु कभी-कभी तो उनका व्यवहार विचित्र ही हो जाया करता था । जब कभी वे पूजन की थाली फेंक कर रुद्रावतार धारण कर लेते, तब उनके समीप जाने का साहस ही किसी को न हो सकता था । कभी वे भक्तों को झिड़कते और कभी मोम से भी नरम होकर शान्ति तथा क्षमा की मूर्ति-से प्रतीत होते थे । कभी-कभी वे क्रोधावस्था में कम्पायमान हो जाते और उनके लाल नेत्र चारों ओर घूमने लगते थे, तथापि उनके अन्तःकरण में प्रेम और मातृ-स्नेह का स्त्रोत बहा ही करता था । भक्तों को बुलाकर वे कहा करते थे कि उनहें तो कुछ ज्ञात ही नहीं हे कि वे कब उन पर क्रोधित हुए । यदि यह सम्भव हो कि माताएँ अपने बालकों को ठुकरा दें और समुद्र नदियों को लौटा दे तो ही वे भक्तों के कल्याण की भी उपेक्षा कर सकते हैं । वे तो भक्तों के समीप ही रहते हैं और जब भक्त उन्हें पुकारते है तो वे तुरन्त ही उपस्थित हो जाते है । वे तो सदा भक्तों के प्रेम के भूखे है ।

हाजी सिद्दीक फालके
----------------------
यह कोई नहीं कह सकता था कि कब श्री साईबाबा अपने भक्त को अपना कृपापात्र बना लेंगे । यह उनकी सदिच्छा पर निर्भर था । हाजी सिद्दीक फालके की कथा इसी का उदाहरण है ।

कल्याणनिवासी एक यवन, जिनका नाम सिद्दीक फालके था, मक्का शरीफ की हज करने के बाद शिरडी आये । वे चावड़ी में उत्तर की ओर रहने लगे । वे मसजिद के सामने खुले आँगन में बैठा करते थे । बाबा ने उन्हें 9 माह तक मसजिद में प्रविष्ट होने की आज्ञा न दी और न ही मसजिद की सीढ़ी चढ़ने दी । फालके बहुत निराश हुँ और कुछ निर्णय न कर सके कि कौनसा उपाय काम में लाये । लोगों ने उन्हें सलाह दी कि आशा न त्यागो । शामा श्रीसाई बाबा के अंतरंग भक्त है । तुम उनके ही द्घारा बाबा के पास पहुँचने का प्रयत्न करो । जिस प्रकार भगवान शंकर के पास पहुँचने के लिये नन्दी के पास जाना आवश्यक होता है, उसी प्रकार बाबा के पास भी शामा के द्घारा ही पहुँचना चाहिये । फालके को यह विचार उचित प्रतीत हुआ और उन्होने शामा से सहायता की प्रार्थना की । शामा ने भी आश्वासन दे दिया और अवसर पाकर वे बाबा से इस प्रकार बोले कि, बाबा, आप उस बूढ़े हाजी को मसजिद में किस कारण नहीं आने देते । अने भक्त स्वेच्छापूर्वक आपके दर्शन को आया-जाया करते है । कम से कम एक बार तो उसे आशीष दे दो । बाबा बोले, शामा, तुम अभी नादान हो । यदि फकीर अल्लाह) नहीं आने देता है तो मै क्या करुँ । उनकी कृपा के बिना कोई भी मसजिद कीसीढ़ियाँ नहीं चढ़ सकता । अच्छा, तुम उससे पूछ आओ कि क्या वह बारवी कुएँ निचली पगडंडी पर आने को सहमत है । शामा स्वीकारात्मक उत्तर लेकर पहुँचे । फर बाबा ने पुनः शामा से कहा कि उससे फिर पुछो कि क्या वह मुझे चार किश्तों में चालीस हजार रुपये देने को तैयार है । फिर शामा उत्तर लेकर लौटे कि आप कि आप कहें तो मैं चालीस लाख रुपये देने को तैयार हूँ । मैं मसजिद में एक बकरा हलाल करने वाला हूँ, उससे पूछी कि उसे क्या रुचिकर होगा – बकरे का मांस, नाध या अंडकोष । शामा यह उत्तर लेकर लौटे कि यदि बाबा के यदि बाबा के भोजन-पात्र में से एक ग्रास भी मिल जाय तो हाजी अपने को सौभाग्यशाली समझेगा । यह उत्तर पाकर बाबा उत्तेजित हो गये और उन्होंने अपने हाथ से मिट्टी का बर्तन (पानी की गागर) उठाकर फेंक दी और अपनी कफनी उठाये हुए सीधे हाजी के पास पहुँचे । वे उनसे कहने लगे कि व्यर्थ ही नमाज क्यों पढ़ते हो । अपनी श्रेष्ठता का प्रदर्शन क्यों करते हो । यह वृदृ हाजियों के समान वे्शभूषा तुमने क्यों धारण की है । क्या तुम कुरान शरीफ का इसी प्रकार पठन करते हो । तुम्हें अपने मक्का हज का अभिमान हो गया है, परन्तु तुम मुझसे अनभिज्ञ हो । इस प्रकार डाँट सुनकर हाजी घबडा गया । बाबा मसजिद को लौट आयो और कुछ आमों की टोकरियाँ खरीद कर हाजी के पास भेज दी । वे स्वयं भी हाजी के पास गये और अपने पास से 55 रुपये निकाल कर हाजी को दिये । इसके बाद से ही बाबा हाजी से प्रेेम करने लगे तथा अपने साथ भोजन करने को बुलाने लगे । अब हाजी भी अपनी इच्छानुसार मसजिद में आने-जाने लगे । कभी-कभी बाबा उन्हें कुछ रुपये भी भेंट में दे दिया करते थे । इस प्रकार हाजी बाबा के दरबार में सम्मिलित हो गये ।

बाबा का तत्वों पर नियंत्रण
------------------------------
बाबा के तत्व-नियंत्रण की दो घटनाओं के उल्लेख के साथ ही यह अध्याय समाप्त हो जायेगा ।
1. एक बार सन्ध्या समय शिरडी में भयानक झंझावात आया । आकाश में घने और काले बादल छाये हुये थे । पवन झकोरों से बह रहा था । बादल गरजते और बिजली चमक रही थी । मूसलाधार वर्षा प्रारंभ हो गई । जहाँ देखो, वहाँ जल ही जल दृष्टिगोचर होने लगा । सब पशु, पक्षी और शिरडीवासी अधिक भयभीत होकर मसजिद में एकत्रित हूँ । शिरडी में देवियाँ तो अनेकों है, परन्तु उस दिन सहायतार्थ कोई न आई । इसलिये सभी ने अपने भगवान साई से, जो भक्ति के ही भूखे थे, संकट-निवारण करने की प्रार्थना की । बाबा को भी दया आ गई और वे बाहर निकल आये । मसजिद के समीप खड़े हो जाओ । कुछ समय के बाद ही वर्षा का जोर कम हो गया । और पवन मन्द पड़ गया तथा आँधी भी शान्त हो गई । आकाश में चन्द्र देव उदित हो गये । तब सब नोग अति प्रसन्न होकर अपने-अपने घर लौट आये ।

2. एक अन्य अवसर पर मध्याहृ के समय धूनी की अग्नि इतनी प्रचण्ड होकर जलने लगी कि उसकी लपटें ऊपर छत तक पहुँचने लगी । मसजिद में बैठे हुए लोगों की समझ में न आता था कि जल डाल कर अग्नि शांत कर दें अथवा कोई अन्य उपाय काम में लावें । बाबा से पूछने का साहस भी कोई नहीं कर पा रहा था । परन्तु बाबा शीघ्र परिस्थिति को जान गये । उन्होंने अपना सटका उठाकर सामने के थम्भे पर बलपूर्वक प्रहार किया और बोले नीचो उतरो और शान्त हो जाओ । सटके की प्रत्येक ठोकर पर लपटें कम होने लगी और कुछ मिनटों में ही धूनी शान्त और यथापूर्व हो गई । श्रीसाई ईश्वर के अवतार हैं । जो उनके सामने नत हो उनके शरणागत होगा, उस पर वे अवश्य कृपा करेंगे । जो भक्त इस अध्याय की कथायें प्रतिदिन श्रद्घा और भक्तिपूर्वक पठन करेगा, उसका दुःखों से शीघ्र ही छुटकारा हो जायेगा । केवल इतना ही नही, वरन् उसे सदैव श्रीसाई चरणों का स्मरण बना रहेगा और उसे अल्प काल में ही ईश्वर-दर्शन की प्राप्ति होकर, उसकी समस्त इच्छायें पूर्ण हो जायेंगी और इस प्रकार वह निष्काम बन जायेगा ।

।। श्री सद्रगुरु साईनाथार्पणमस्तु । शुभं भवतु ।।

Wednesday, 6 July 2011

दुःख भंजन है तेरा नाम साईं....

ॐ सांई राम





दुःख भंजन है तेरा नाम साईं,
भगतों के दुःख काटना तेरे काम है साईं,
मुझ को बुला ले अपने शिर्डी धाम साईं,
मैं कहता रहूँ ॐ साईं, राम साईं,
दुःख भंजन है तेरा नाम साईं ||
यह सौँप दिया सारा जीवन,
सांई नाथ तुम्हारे चरणो मेँ।
अब जीत तुम्हारे चरणोँ मेँ,
अब हार तुम्हारे चरणोँ मेँ॥
मैँ जग मेँ रहूँ तो ऐसे रहूँ,
ज्योँ जल मेँ कमल का फूल रहे।
अब सौँप दिया सारा जीवन,
सांई नाथ तुम्हारे चरणो मेँ।







For Daily SAI SANDESH 
Click at our Group address : http://groups.google.com/group/shirdikesaibaba/boxsubscribe?p=FixAddr&email 
Current email address : 
shirdikesaibaba@googlegroups.com 

Visit us at :
 
 For Daily Sai Sandesh Through SMS:
Type ON SHIRDIKESAIBABAGROUP
In your create message box
and send it to
+919870807070

Please Note : For Donations

Our bank Details are as follows :

A/c-Title -Shirdi Ke Sai Baba Group
A/c.No-0036DD1582050
IFSC -INDB0000036
IndusInd Bank Ltd,
N-10/11,Sec-18,
Noida-201301. 
 
For more details Contact : Anand Sai  (Mobile)+919810617373

Tuesday, 5 July 2011

Sadguru per sada vishvaas rakhe


ॐ सांई राम
suraj.gif
SKSBG-O-0021.jpg


1diya.gif   1diya.gif  1diya.gif  1diya.gif  1diya.gif
1diya.gif 1diya.gif


ॐ साईं राम 

अनंत  कोटि ब्रह्माण्ड नायक राजाधिराज योगिराज परब्रह्म श्री  सच्चिदानंद समर्थ  सद्गुरु श्री साईं नाथ महाराज की जय  !!

divider4.gif
दास गनु का प्रयाग स्नानबाबा के अनेक भक्त थे जिनमे से एक दास गनु थे  दास गनु ने बाबा की कीर्ति अपने भजन कीर्तनो से लोगो के पास पहुचाई !एक बार दास गनु को गंगा स्नान का विचार आया, तब वह बाबा के पास गंगा स्नान करने के लिए हरिद्वार जाने की अनुमति लेने गए, तब बाबा ने कहा, इतनी दूर व्यर्थ भटकने की क्या आवश्यकता है, अपना प्रयाग तो यही है  बस तुम मुझपर विश्वास रखो, और जैसे ही दास गनु बाबा के चरणों में नत हुए तब बाबा के चरणों से गंगा, यमुना की धरा बहने लगी, यह चमत्कार देखकर दास गनु की भक्ति और प्रेम और अधिक बढ़ गया और उनकी आँखों से अश्रु धरा बहने लगी !!

2.1.jpg


जिस प्रकार नदी पार करते समय हम नाविक पर विश्वास रखते है उसी प्रकार का विश्वास भवसागर से पार होने के लिए हमे सदुगुरु  पर रखना चाहिए !!


divider4.gif






For Daily SAI SANDESH Click at our Group address : http://groups.google.com/group/shirdikesaibaba/boxsubscribe?p=FixAddr&email 
Current email address : 
shirdikesaibaba@googlegroups.com 

Visit us at :
 For Daily Sai Sandesh Through SMS:
Type ON SHIRDIKESAIBABAGROUP
In your create message box
and send it to
+919870807070

Please Note : For Donations

Our bank Details are as follows :

A/c-Title -Shirdi Ke Sai Baba Group
A/c.No-0036DD1582050
IFSC -INDB0000036
IndusInd Bank Ltd,
N-10/11,Sec-18,
Noida-201301. 
For more details Contact : Anand Sai  (Mobile)+919810617373
or mail us

For Donation

For donation of Fund/ Food/ Clothes (New/ Used), for needy people specially leprosy patients' society and for the marriage of orphan girls, as they are totally depended on us.

For Donations, Our bank Details are as follows :

A/c - Title -Shirdi Ke Sai Baba Group

A/c. No - 200003513754 / IFSC - INDB0000036

IndusInd Bank Ltd, N - 10 / 11, Sec - 18, Noida - 201301,

Gautam Budh Nagar, Uttar Pradesh. INDIA.