शिर्डी के साँई बाबा जी की समाधी और बूटी वाड़ा मंदिर में दर्शनों एंव आरतियों का समय....

"ॐ श्री साँई राम जी
समाधी मंदिर के रोज़ाना के कार्यक्रम

मंदिर के कपाट खुलने का समय प्रात: 4:00 बजे

कांकड़ आरती प्रात: 4:30 बजे

मंगल स्नान प्रात: 5:00 बजे
छोटी आरती प्रात: 5:40 बजे

दर्शन प्रारम्भ प्रात: 6:00 बजे
अभिषेक प्रात: 9:00 बजे
मध्यान आरती दोपहर: 12:00 बजे
धूप आरती साँयकाल: 5:45 बजे
शेज आरती रात्री काल: 10:30 बजे

************************************

निर्देशित आरतियों के समय से आधा घंटा पह्ले से ले कर आधा घंटा बाद तक दर्शनों की कतारे रोक ली जाती है। यदि आप दर्शनों के लिये जा रहे है तो इन समयों को ध्यान में रखें।

************************************

Saturday, 10 October 2020

श्री साईं लीलाएं -मस्जिद का पुनः निर्माण और बाबा का गुस्सा

 ॐ सांई राम


कल हमने पढ़ा था.. रामनवमी के दिन शिरडी का मेला       

श्री साईं लीलाएं -
मस्जिद का पुनः निर्माण और बाबा का गुस्सा

गोपालराव गुंड की एक इच्छा तो पूर्ण हो गई थीउसी तरह उनकी एक और इच्छा भी थी कि मस्जिद का पुनर्निर्माण का कार्य भी कराना चाहिएअपने इस विचार को साकार रूप देने के लिए उन्होंने पत्थर इकट्टा करके उन्हें वर्गाकार बनवाया थालेकिन इस कार्य का श्रेय उन्हें प्राप्त नहीं हुआशायद बाबा की इच्छा न थीमस्जिद के पुनर्निर्माण का श्रेय नाना साहब चाँदोरकर को मिला और आंगन के कार्य का श्रेय काका साहब दीक्षित को मिलाबाबा की शायद यही इच्छा थी कि यह कार्य इन कार्यों को अनुमति नहीं दी थी|

बाबा से अनुमति प्राप्त करने के पश्चात् देखते-ही-देखते एक ही रात में मस्जिद का पूरा आंगन बनकर तैयार हो गयाफिर भी साईं बाबा अपने उसी टाट के टुकड़े के आसन पर ही बैठते थेबाद में टाट के टुकड़े को वहां से हटाकर उसकी जगह पर एक छोटी-सी गद्दी बिच्छा दी गयी| 1911 में बाबा के भक्तों ने भरपूर मेहनत करके सभामंडप को भी बना दिया थाक्योंकि मस्जिद का आंगन छोटा था और भक्तों की संख्या अधिक होने पर असुविधा होती थीकाका साहब दीक्षित आंगन को विस्तार देकर छप्पर बनवाने की इच्छा रखते थेइसलिए उन्होंने आवश्यकतानुसार धन खर्च करके लोहे की बल्लियां आदि खरीद लींउस समय बाबा एक रात मस्जिद चावड़ी में बिताते और सुबह को मस्जिद में लौट आते थेयह बात सबको पता थीभक्तों ने घोर परिश्रम करके लोहे के खम्बों को गाड़ापर अगले दिन सुबह को चावड़ी से लौटते साईं बाबा ने उन खम्बों को उखाड़कर फेंक दिया और क्रोधित हो गए|गुस्से में बाबा एक हाथ से लोहे के खम्बे उखाड़ने लगे और दूसरे हाथ से तात्या के सिर पर से कपड़ा उतारकर उसमें आग लगाकर गड्ढे में फेंक दियाबाद में उन्होंने अपनी जेब से एक रुपये का सिक्का निकालकर उसे भी गड्ढे में डाल दियाउस समय बाबा के क्रोध के मारे नेत्र अंगारे की तरह लाल सुर्ख हो रहे थेबाबा का ऐसा विकराल रूप देखकर कोई भी उनके सामने आंख उठाकर देखने का साहस ने जुटा सकासभी उपस्थित लोग बड़े भयभीत होकर मन ही मन में बहुत घबरा रहे थे कि अब क्या होने वाला है बाबा के इस रूप को देखकर कोई भी कुछ पूछने अथवा बाबा को मनाने की हिम्मत न जुटा सका|आखिर में बाबा का एक भक्त भागोजी शिंदे जो कुष्ठ रोग से ग्रस्त थेबाबा को मनाने के लिए साहस करके आगे बढ़े तो बाबा ने उसकी जमकर पिटाई कीमाधवराव देशपांड़े (शामा) उन्हें समझाने गये तो उसके साथ भी कुछ ऐसा ही हुआक्रोधावेश में बाबा ईंट के टुकड़े उठाकर फेंकने लगेजो भी बाबा को मनाने के लिए आगे बढ़ा उसी की दुर्गति हुई|कुछ देर बाद साईं बाबा का क्रोध स्वयं ही शांत हो गयातब बाबा ने वहां खड़े भक्तों में से एक दुकानदार को बुलाया और एक जरी वाला रूमाल खरीदकर उसे खुद अपने हाथों से तात्या के सिर पर बांधाबाबा का ऐसा विचित्र व्यवहार देखकर उपस्थित भक्तों को बड़ा अचम्भा हुआउन्हें बाबा के एकाएक गुस्सा होने और तात्या को पीट डालने तथा फिर क्रोध के शांत हो जाने पर तात्या का प्यार दर्शाना कुछ भी समझ में नहीं आयाउसके बाद बाबा की कृपा से सभागृह के निर्माण का कार्य शीघ्र ही पूरा हो गया|कई बार ऐसा देखने आया था कि बाबा कभी-कभी बिना किसी कारण के एकाएक क्रोधित हो जाते थेतो पल भर में ही शांत भी हो जाया करते थे|
कल चर्चा करेंगे..बाबा द्वारा अद्भुत नेत्र चिकित्सा   

ॐ सांई राम

ॐ साईं श्री साईं जय जय साईं

बाबा के श्री चरणों में विनती है कि बाबा अपनी कृपा की वर्षा सदा सब पर बरसाते रहें ।

Friday, 9 October 2020

श्री साईं लीलाएं - रामनवमी के दिन शिरडी का मेला

 ॐ सांई राम


परसों हमने पढ़ा था.. श्री साईं विट्ठल का दर्शन देना      

श्री साईं लीलाएं - रामनवमी के दिन शिरडी का मेला
     

साईं बाबा के एक भक्त कोपर गांव में रहते थेउनका नाम गोपालराव गुंड थाउन्होंने संतान न होने के कारण तीन-तीन विवाह कियेफिर भी उन्हें संतान सुख प्राप्त न हुआअपनी साईं भक्ति के परिणामस्वरूप उन्हें साईं बाबा के आशीर्वाद से एक पुत्र संतान की प्राप्ति हुईपुत्र संतान पाकर उनकी खुशी का कोई ठिकाना न रहा|


गोपालराव गुंड को सन् 1897 में पुत्र की प्राप्ति हुई थीपुत्र-प्राप्ति की खुशी में उनके मन में यह विचार आया कि शिरडी में उन्हें कोई मेला या उर्स अवश्य लगवाना चाहिएअपने इस विचार के बारे में उन्होंने शिरडी में रहने वाले साईं भक्त तात्या पाटिलदादा कोते पाटिलमाधवराज आदि से मिलकर उन्हें अपने विचारों से अगवत करायाउन सभी को यह विचार बड़ा पसंद आयाफिर उन्हें इस बारे में साईं बाबा की अनुमति और आश्वासन भी मिल गयालेकिन मेला लगाने के लिए सरकारी अनुमति प्राप्त करना भी आवश्यक थाफिर इसके लिए एक पत्र कलेक्टर को भेजा गयापरन्तु गांव के पटवारी ने उस पर अपनी आपत्ति जता दीइसलिए अनुमति नहीं मिल सकी|

इसके बारे में साईं बाबा की अनुमति पहले ही प्राप्त हो चुकी थीअत: इसके बारे में एक बार फिर से कोशिश की गयीइस बार सरकारी अनुमति बिना किसी परेशानी के मिल गयीइस तरह से साईं बाबा की आज्ञा से रामनवमी वाले दिन उर्स भरने का निर्णय हुआरामनवमी के दिन उर्स भरना हिन्दू-मुस्लिम एकता का प्रतीक थायह अद्देश्य पूर्ण रूप से सफल रहाइस अवसर पर कच्ची दुकानें बनाई गईं और कुश्तियां भी आयोजित की गईंरामनवमी वाले दिन साईं बाबा का पूजनभजनगायनवाद्य यंत्रों की मधुर ध्वनि के साथ ध्वजों को लहराते हुए संचालन किया गयाउस दिन शिरडी में सभी दिशाओं से तीर्थयात्रा इस उत्सव को मनाने के लिए शिरडी में आये|

गोपालराव गुंड के एक मित्र घमूअण्णा कासार जो अहमदनगर में रहा करते थेवे भी नि:संतान थेउन्हें भी साईं बाबा के आशीर्वाद से पुत्ररत्न की प्राप्ति हुई थीइसलिए गोपालराव ने उनसे भी उर्स के लिए एक ध्वज देने को कहाएक अन्य ध्वज जागीरदार नाना साहब निमोलकर ने दियादोनों ध्वजों को बड़े धूमधाम के साथ पूरे गांव से निकालने के बाद मस्जिद तक पहुंचा दिया गयाफिर उन्हें मस्जिद के दोनों कोनों पर फहरा दिया गयातब से लेकर यह परम्परा आज तक उसी तरह से चली आ रही हैसन् 1911 से इस मेले में राम-जन्म का उत्सव भी मनाया जाने लगा है|

कल चर्चा करेंगे..मस्जिद का पुनः निर्माण और बाबा का गुस्सा
ॐ सांई राम

ॐ साईं श्री साईं जय जय साईं

बाबा के श्री चरणों में विनती है कि बाबा अपनी कृपा की वर्षा सदा सब पर बरसाते रहें ।

Thursday, 8 October 2020

श्री साई सच्चरित्र - अध्याय 24

 ॐ सांई राम


आप सभी को शिर्डी के साँई बाबा ग्रुप की ओर से साईं-वार की हार्दिक शुभ कामनाएं , हम प्रत्येक साईं-वार के दिन आप के समक्ष बाबा जी की जीवनी पर आधारित श्री साईं सच्चित्र का एक अध्याय प्रस्तुत करने के लिए श्री साईं जी से अनुमति चाहते है |

हमें आशा है की हमारा यह कदम घर घर तक श्री साईं सच्चित्र का सन्देश पंहुचा कर हमें सुख और शान्ति का अनुभव करवाएगा, किसी भी प्रकार की त्रुटी के लिए हम सर्वप्रथम श्री साईं जी के कमल चरणों में क्षमा याचना अर्पण करते है।

श्री साई सच्चरित्र - अध्याय 24
.........................

श्री साई बाबा का हास्य विनोद, चने की लीला (हेमाडपंत), सुदामा की कथा, अण्णा चिंचणीकर और मौसीबाई की कथा ।
------------------------------

प्रारम्भ
..........

अगले अध्याय में अमुक-अमुक विषयों का वर्णन होगा, ऐसा कहना एक प्रकार का अहंकार ही है । जब तक अहंकार गुरुचरणों में अर्पित न कर दिया जाये, तब तक सत्यस्वरुप की प्राप्ति संभव नहीं । यदि हम निरभिमान हो जाये तो सफलता प्रापात होना निश्चित ही है ।

श्री साईबाबा की भक्ति करने से ऐहिक तथा आध्यात्मिक दोनों पदार्थों की प्राप्ति होती है और हम अपनी मूल प्रकृति में स्थिरता प्राप्त कर शांति और सुख के अधिकारी बन जाते है । अतः मुमुक्षुओं को चाहिये कि वे आदरसहित श्री साईबाबा की लीलाओं का श्रवण कर उनका मनन करें । यदि वे इसी प्रकारा प्रयत्न करते रहेंगे तो उन्हें अपने जीवन-ध्येय तथा परमानंद की सहज ही प्राप्ति हो जायेगी । प्रायः सभी लोगों को हास्य प्रिय होता है, परन्तु हास्य का पात्र स्वयं कोई नहीं बनना चाहता । इस विषय में बाबा की पद्घति भी विचित्र थी । जब वह भावनापूर्ण होती तो अति मनोरंजक तथा शिक्षाप्रद होती थी । इसीलिये भक्तों को यदि स्वयं हास्य का पात्र बनना भी पड़ता था तो उन्हें उसमें कोई आपत्ति न होती थी । श्री हेमाडपंत भी ऐसा एक अपना ही उदाहरण प्रस्तुत करते है ।
चना लीला
............

शिरडी में बाजार प्रति रविवार को लगता है । निकटवर्ती ग्रामों से लोग आकर वहाँ रास्तों पर दुकानें लगाते और सौदा बेचते है । मध्याहृ के समय मसजिद लोगों से ठसाठस भर जाया करती थी, परन्तु इतवार के दिन तो लोगों की इतनी अधिक भीड़ होती कि प्रायः दम ही घुटने लगता था । ऐसे ही एक रविवार के दिन श्री. हेमाडपंत बाबा की चरण-सेवा कर रहे थे । शामा बाबा के बाई ओर व वामनराव बाबा के दाहिनी ओर थे । इस अवसर पर श्रीमान् बूटीसाहेब और काकसाहेब दीक्षित भी वहाँ उपस्थित थे । तब शामा ने हँसकर अण्णासाहेब से कहा कि देखो, तुम्हारे कोट की बाँह पर कुछ चने लगे हुए-से प्रतीत होते है । ऐसा कहकर शामा ने उनकी बाँह स्पर्श की, जहाँ कुछ चने के दाने मिले । जब हेमाडपंत ने अपनी बाईं कुहनी सीधी की तो चने के कुछ दाने लुढ़क कर नीचे भी गिर पड़े, जो उपस्थित लोगों ने बीनकर उठाये । भक्तों को तो हास्य का विषय मिल गया और सभी आश्चर्यचकित होकर भाँति-भाँति के अनुमान लगाने लगे, परन्तु कोई भी यह न जान सका कि ये चने के दाने वहाँ आये कहाँ से और इतने समय तक उसमें कैसे रहे । इसका संतोषप्रद उत्तर किसी के पास न था, परन्तु इस रहस्य का भेद जानने को प्रत्येक उत्सुक था । तब बाबा कहने लगे कि इन महाशय-अण्णासाहेब को एकांत में खाने की बुरी आदत है । आज बाजार का दिन है और ये चने चबाते हुए ही यहाँ आये है । मैं तो इनकी आदतों से भली भाँति परिचित हूँ और ये चने मेरे कथन की सत्यता के प्रमाणँ है । इसमें आश्चर्य की बात ही क्या है । हेमाडपंत बोले कि बाबा, मुझे कभी भी एकांत में खाने की आदत नहीं है, फिर इस प्रकार मुझ पर दोशारोपण क्यों करते है । अभी तक मैंने शिरडी के बाजार के दर्शन भी नहीं किये तथा आज के दिन तो मैं भूल कर भी बाजार नहीं गया । फिर आप ही बताइये कि मैं ये चने भला कैसे खरीदता और जब मैंने खरीदे ही नही, तब उनके खाने की बात तो दूर की ही है । भोजन के समय भी जो मेरे निकट होते है, उन्हें उनका उचित भाग दिये बिना मैं कभी ग्रहण नहीं करता । बाबा-तुम्हारा कथन सत्य है । परन्तु जब तुम्हारे समीप ही कोई न हो तो तुम या हम कर ही क्या सकते है । अच्छा, बताओ, क्या भोजन करने से पूर्व तुम्हें कभी मेरी स्मृति भी आती है । क्या मैं सदैव तुम्हारे साथ नहीं हूँ । फिर क्या तुम पहले मुझे ही अर्पण कर भोजन किया करते हो ।

शिक्षा
.........

इस घटना द्घारा बाबा क्या शिक्षा प्रदान कर रहे है, थोड़ा इस ओर ध्यान देने की आवश्यकता है । इसका सारांश यह है कि इन्द्रियाँ, मन और बुद्घि द्घारा पदार्थों का रसास्वादन करने के पूर्व बाबा का स्मरण करना चाहिए । उनका स्मरण ही अर्पण की एक विधि है । इन्द्रियाँ विषय पदार्थों की चिन्ता किये बिना कभी नहीं रह सकती । इन पदार्थों को उपभोग से पूर्व ईश्वरार्पण कर देने से उनका आसक्ति स्वभावतः नष्ट हो जाती है । इसी प्रकार समस्त इच्छाये, क्रोध और तृष्णा आदि कुप्रवृत्तियों को प्रथम ईश्वरार्पण कर गुरु की ओर मोड़ देना चाहिये । यदि इसका नित्याभ्यास किया जाय तो परमेश्वर तुम्हे कुवृत्तियों के दमन में सहायक होंगे । विषय के रसास्वादन के पूर्व वहाँ बाबा की उपस्थिति का ध्यान अवश्य रखना चाहिये । तब विषय उपभोग के उपयुक्त है या नही, यह प्रश्न उपस्थित हो जायेगा और ततब अनुचित विषय का त्याग करना ही पड़ेगा । इस प्रकार कुप्रवृत्तियाँ दूर हो जायेंगी और आचरण में सुधार होगा । इसके फलस्वरुप गुरुप्रेम में वृद्घि होकर सुदृ ज्ञान की प्राप्ति होगी । जब इस प्रकारा ज्ञान की वृद्घि होती है तो दैहिक बुद्घि नष्ट हो चैतन्यघन में लीन हो जाती है । वस्तुतः गुरु और ईश्वर में कोई पृथकत्व नहीं है और जो भिन्न समझता है, वह तो निरा अज्ञानी है तथा उसे ईश्वर-दर्शन होना भी दुर्लभ है । इसलिये समस्त भेदभाव को भूल कर, गुरु और ईश्वर को अभिन्न समझना चाहिये । इस प्रकार गुरु सेवा करने से ईश्वर-कृपा प्राप्त होना निश्चित ही है और तभी वे हमारा चित्त शुदृ कर हमें आत्मानुभूति प्रदान करेंगे । सारांश यह है कि ईश्वर और गुरु को पहले अर्पण किये बिना हमें किसी भी इन्द्रयग्राहृ विषय की रसास्वादन न करना चाहिए । इस प्रकार अभ्यास करने से भक्ति में उत्तरोततर वृद्घि होगी । फिर भी श्री साईबाबा की मनोहर सगुण मूर्ति सदैव आँखों के सम्मुखे रहेगी, जिससे भक्ति, वैराग्य और मोक्ष की प्राप्ति शीघ्र हो जायेगी । ध्यान प्रगाढ़ होने से क्षुधा और संसार के अस्तित्व की विस्मृति हो जायेगी और सांसारिक विषयों का आकर्षण स्वतः नष्ट होकर चित्त को सुख और शांति प्राप्त होगी ।


सुदामा की कथा
....................

उपयुक्त घटना का वर्णन करते-करते हेमाडपंत को इसी प्रकार की सुदामा की कथा याद आई, जो ऊपर वर्णित नियमों की पुष्टि करती है ।
श्री कृष्ण अपने ज्येष्ठ भ्राता बलराम तथा अपने एक सहपाठी सुदामा के साथ सांदीपनी ऋषि के आश्रम में रहकर विघाध्ययन किया करते थे । एक बार कृष्ण और बलराम लकड़ियाँ लाने के लिये बन गये । सांदीपनि ऋषि की पत्नी ने सुदामा को भी उसी कार्य के निमित्त वन भेजा तथा तीनों विघार्थियों को खाने को कुछ चने भी उन्होंने सुदामा के द्घारा भेजे । जब कृष्ण और सुदामा की भेंट हुई तो कृष्ण ने कहा, दादा, मुझे थोड़ा जल दीजिये, प्यास अधिक लग रही है । सुदामा ने कहा, भूखे पेट जल पीना हानिकारक होता है, इसलिये पहले कुछ देर विश्राम कर लो । सुदामा ने चने के संबंध में न कोई चर्चा की और न कृष्ण को उनका भाग ही दिया । कृष्ण थके हुए तो थे ही, इसलिए सुदामा की गोद में अपना सिर रखते ही वे प्रगाढ़ निद्रा में निमग्न हो गये । तभी सुदामा ने अवसर पाकर चने चबाना प्रारम्भ कर दिया । इसी बीच में अचानक कृष्ण पूछ बैठे कि दादा, तुम क्या खा रहे हो और यह कड़कड़ की ध्वनि कैसी हो रही है । सुदामा ने उत्तर दिया कि यहाँ खाने को है ही क्या । मैं तो शीत से काँप रहा हूँ और इसलिये मेरे दाँत कड़कड़ बज रहे है । देखो तो, मैं अच्छी तरह से विष्णु सहस्त्रनाम भी उच्चारण नहीं कर पा रहा हूँ । यह सुनकर अन्तर्यामी कृष्ण ने कहा कि दादा, मैंने अभी स्वपन में देखा कि एक व्यक्ति दूसरे की वस्तुएँ खा रहा है । जब उससे इस विषय में प्रश्न किया गया तो उसने उत्तर दिया कि मैं खाक (धूल) खा रहा हूँ । तब प्रश्नकर्ता ने कहा, ऐसा ही हो (एवमस्तु) दादा, यह तो केवल स्वपन था, मुझे तो ज्ञात है कि तुम मेरे बिना अन्न का दाना भी ग्रहण नहीं करते, परन्तु श्रम के वशीभूत होकर मैंने तुम से ऐसा प्रश्न किया था । यदि सुदामा किंचित मात्र भी कृष्ण की सर्वज्ञता से परिचित होते तो वे इस भाँति आचरण कभी न करते । अतः उन्हें इसका फल भोगना ही पड़ा । श्रीकृष्ण के लँगोटिया मित्र होत हए भी सुदामा को अपना शेएष जीवन दरिद्रता में व्यतीत करना पड़ा, परन्तु केवल एक ही मुट्ठी रुखे चावल (पोहा), जो उनकी स्त्री सुशीला ने अत्यन्त परिश्रम से उपार्जित किए थे, भेंट करने पर श्रीकृष्ण जी बहुत प्रसन्न हो गये और उन्हें उसके बदले में सुवर्णनगरी प्रदान कर दी । जो दूसरों को दिये बिना एकांत में खाते है, उन्हें इस कथा को सदैव स्मरण रखना चाहिए । श्रुति भी इस मत का प्रतिपादन करती है कि प्रथम ईश्वर को ही अर्पण करें तथा उच्छिष्ट हो जाने के उपरांत ही उसे ग्रहण करें । यही शिक्षा बाबा ने हास्य के रुप में दी है ।


अण्णा चिंचणीकर और मौसीबाई
..................

अब श्री. हेमाडपंत एक दूसरी हास्यपूर्ण कथा का वर्णन करते है, जिसमें बाबा ने शान्ति-स्थापन का कार्य किया है । दामोदर घनश्याम बाबारे, उपनाम अण्णा चिंचणीकर बाबा के भक्त थे । वे सरल, सुदृढ़ और निर्भीक प्रकृति के व्यक्ति थे । वे निडरतापूर्वक स्पष्ट भाषण करते और व्यवहार में सदैव नगद नारायण-से थे । यघपि व्यावहारिक दृष्टि से वे रुखे और असहिष्णु प्रतीत होते थे, परन्तु अन्तःकरण से कपटहीन और व्यवहार-कुशल थे । इसी कारण उन्हें बाबा विशेष प्रेम करते थे । सभी भक्त अपनी-अपनी इच्छानुसार बाबा के अंग-अंग को दबा रहे थे । बाबा का हाथे कठड़े पर रखा हुआ था । दूसरी ओर एक वृदृ विधवा उनकी सेवा कर रही थी, जिनका नाम वेणुबाई कौजलगी था । बाबा उन्हें माँ शब्द से सम्बोधित करते तथा अन्य लोग उन्हे मौसीबाई कहते थे । वे एक शुदृ हृदय की वृदृ महिला थी । वे उस समय दोनों हाथों की अँगुलियाँ मिलाकर बाबा के शरीर को मसल रही थी । जब वे बलपूर्वक उनका पेट दबाती तो पेट और पीठ का प्रायः एकीकरण हो जाता था । बाबा भी इस दबाव के कारण यहाँ-वहाँ सरक रहे थे । अण्णा दूसरी ओर सेवा में व्यस्त थे । मौसीबाई का सिर हाथों की परिचालन क्रिया के साथ नीचे-ऊपर हो रहा था । जब इस प्रकार दोनों सेवा में जुटे थे तो अनायास ही मौसीबाई विनोदी प्रकृति की होने के कारण ताना देकर बोली कि यह अण्णा बहुत बुरा व्यक्ति है और यह मेरा चुंबन करना चाहता है । इसके केश तो पक गये है, परन्तु मेरा चुंबन करने में इसे तनिक भी लज्जा नहीं आती है । यतह सुनकर अण्णा क्रोधित होकर बोले, तुम कहती हो कि मैं एक वृदृ और बुरा व्यक्ति हूँ । क्या मैं मूर्ख हूँ । तुम खुद ही छेड़खानी करके मुझसे झगड़ा कर रही हो । वहाँ उपस्थित सब लोग इस विवाद का आनन्द ले रहे थे । बाबा का स्नेह तो दोनों पर था, इसलिये उन्होंने कुशलतापूर्वक विवाद का निपटारा कर दिया । वे प्रेमपूर्वक बोले, अरे अण्णा, व्यर्थ ही क्यों झगड़ रहे हो । मेरी समझ में नहीं आता कि माँ का चुंबन करने में दोष या हानि ही क्या हैं । बाबा के शब्दों को सुनकर दोनों शान्त हो गये और सब उपस्थित लोग जी भरकर ठहाका मारकर बाबा के विनोद का आनन्द लेने लगे ।

बाबा की भक्त-परायणता
बाबा भक्तों को उनकी इच्छानुसार ही सेवा करने दिया करते थे और इस विषय में किसी प्रकार का हस्तक्षेप उन्हें सहन न था । एक अन्य अवसर पर मौसीबाई बाबा का पेट बलपूर्वक मसल रही थी, जिसे देख कर दर्शकगण व्यग्र होकर मौसीबाई से कहने लगे कि माँ । कृपा कर धीरे-धीरे ही पेट दबाओ । इस प्रकार मसलने से तो बाबा की अंतड़ियाँ और ना़ड़ियाँ ही टूट जायेंगी । वे इतना कह भी न पाये थे कि बाबा अपने आसन से तुरन्त उठ बैठे और अंगारे के समान लाल आँखें कर क्रोधित हो गये । साहस किसे था, जो उन्हें रोके । उन्होंने दोनों हाथों से सटके का एक छोर पकड़ नाभि में लगाया और दूसरा छोर जमीन पर रख उसे पेट से धक्का देने लगे । सटका (सोटा) लगभग 2 या 3 फुट लम्बा था । अब ऐसा प्रतीत होने लगा कि वह पेट में छिद्र कर प्रवेश कर जायेगा । लोग शोकित एवं भयभीत हो उठे कि अब पेट फटने ही वाला है । बाबा अपने स्थान पर दृढ़ हो, उसके अत्यन्त समीप होते जा रहे थे और प्रतिक्षण पेट फटने की आशंका हो रही थी । सभी किंकर्तव्यविमूढ़ हो रहे थे । वे आश्चर्यचकित और भयभीत हो ऐसे खड़े थे, मानो गूँगोंका समुदाय हो । यथार्थ में भक्तगण का संकेत मौसीबाई को केवल इतना ही था कि वे सहज रीति से सेवा-शुश्रूषा करें । किसी की इच्छा बाबा को कष्ट पहुँचाने की न थी । भक्तों ने तो यह कार्य केवल सद्भभावना से प्रेरित होकर ही किया था । परन्तु बाबा तो अपने कार्य में किसी का हस्तक्षेप कणमात्र भी न होने देना चाहते थे । भक्तों को तो आश्चर्य हो रहा था कि शुभ भावना से प्रेरित कार्य दुर्गति से परिणत हो गया और वे केवल दर्शक बने रहने के अतिररिक्त कर ही क्या सकते थे । भाग्यवश बाबा का क्रोध शान्त हो गया और सटका छोड़कर वे पुनः आसन पर विराजमान हो गये । इस घटना से भक्तों ने शिक्षा ग्रहण की कि अब दूसरों के कार्य में कभी भी हस्तक्षेप न करेंगे और सबको उनकी इच्छानुसार ही बाबा की सेवा करने देंगे । केवल बाबा ही सेवा का मूल्य आँकने में समर्थ थे ।


।। श्री सद्रगुरु साईनाथार्पणमस्तु । शुभं भवतु ।।

Wednesday, 7 October 2020

श्री साईं लीलाएं- विट्ठल का दर्शन देना

 ॐ सांई राम




कल हमने पढ़ा था.. गौली बुवा की कथा     

श्री साईं लीलाएं

विट्ठल का दर्शन देना    

साईं बाबा भगवद् भजन व ईश्वर चिंतन में विशेष रूप से रुचि रखते थेबाबा सदैव अपने आत्मस्वरूप में मग्न रहा करते थेबाबा के होठों पर 'अल्लाह मालिकका उच्चारण सदैव रहता थाबाबा द्वारिकामाई मस्जिद में 'कीर्तन सप्ताहका भी आयोजन किया करते थेइसी 'कीर्तन सप्ताहको 'नाम-सप्ताहभी कहा जाता था|


एक समय की बात है साईं बाबा ने अपने प्रिय भक्त दासगणु को 'कीर्तन सप्ताहकरने के लिए कहातब दासगणु ने साईं बाबा से कहा कि - "हे देवा ! आपकी आज्ञा मेरे लिए शिरोधार्य हैपरन्तु आप मुझे विश्वास दें कि इस कीर्तन सप्ताह में विठ्ठल अवश्य ही प्रकट होंगे|" दासगणु की बात सुनकर साईं बाबा ने अपने हृदय पर अपना सीधा हाथ रखाउनका ऐसा करना इस बात का संकेत था कि वह दासगणु को भरोसा दे रहे होंफिर साईं बाबा बोले कि विठ्ठल अवश्य ही प्रकट होंगेलेकिन इसके लिए भक्तों में श्रद्धाविश्वास और तीव्र उत्सुकता का होना भी बहुत जरूरी हैबाबा बोले कि विठ्ठल की पंढरीरणछोड़ की द्वारका और ठाकुरनाथ की डंकपुरी तो शिरडी ही हैफिर किसी को भी दूर जाने की क्या आवश्यकता हैक्या विठ्ठल कहीं बाहर से आयेंगे वे तो शिरडी में ही विराजते हैंजब भक्तों में भक्ति और प्रेम का प्रवाह सुचारू रूप से होगा तो विठ्ठल स्वयं ही प्रकट होकर उनकी इच्छा अवश्य पूर्ण करेंगे|

फिर ऐसा ही हुआ भीजब कीर्तन सप्ताह का समापन हुआ तो विठ्ठल स्वयं ही प्रकट हो गएइस बात के प्रत्यक्ष प्रमाण काका साहब दीक्षित थेजिन्होंने प्रतिदिन की तरह स्नानादि किया से निवृत्त होने के बाद ध्यान किया तो उन्हें विठ्ठल के साक्षात् दर्शन हुएफिर जब उस दिन दोपहर को काका साहब साईं बाबा के दर्शन करने के लिए मस्जिद गए तो बाबा ने उनसे पूछा - "क्यों विठ्ठल पाटिल आये थे क्या तुमने उसके दर्शन किएवे बहुत चंचल हैंउन्हें अच्छी तरह पकड़ लोजरा-सी भी असावधानी बरतोगे तो वे बेचकर निकल पायेंगे - ऐसा कहकर साईं बाबा मुस्कराने लगेजैसा कि साईं बाबा का स्वभाव था|

काका साहब दीक्षित को उस दिन सुबह विठ्ठल के दर्शन हुए ही थेदोपहर में भी उन्हें फिर से एक बार उनके दर्शन हुएउस दिन एक आश्चर्यजनक घटना यह हुई कि एक चित्र बेचने वाला विठोला (विठ्ठल) के चित्र वहां पर बेचने आयावे चित्र ठीक वैसे ही थेजैसे ध्यान करते समय काका साहब को विठ्ठल के दर्शन हुए थेचित्र को देखकर और बाबा की बात को याद करते ही उन्हें बहुत हैरानी और प्रसन्नता हुईफिर काका साहब ने चित्र बेचने वाले से खुशी-खुशी एक चित्र खरीद लिया और उसे अपने पूजाघर में स्थापित कर दिया|



परसों चर्चा करेंगे... रामनवमी के दिन शिरडी का मेला

ॐ सांई राम
ॐ साईं श्री साईं जय जय साईं
बाबा के श्री चरणों में विनती है कि बाबा अपनी कृपा की वर्षा सदा सब पर बरसाते रहें ।

Tuesday, 6 October 2020

श्री साईं लीलाएं- गौली बुवा की कथा

 ॐ सांई राम



कल हमने पढ़ा था.. बाबा जी का अमृतोपदेश    

श्री साईं लीलाएं
गौली बुवा की कथा   
95 वर्षीय वृद्ध गौली बुवा विठोवा के परमभक्त थेवे पंढरी के बारकरी में थेगौली बुवा पूरे वर्षभर में महीने वे पंढरपुर रहते थे और महीने यानी आषाढ़ से कार्तिक मास तक गंगा के किनारे रहा करते थेगौली बुवा का यह नियम था कि वे प्रत्येक वर्ष सवारी लेकर पंढरपुर जाया करते थे और वहां से वापस लौटते समय साईं बाबा के दर्शन करने के लिए शिरडी भी अवश्य जाया करते थेसवारी के नाम पर उनके पास एक गधा था जिस पर वे अपना सामान रखा करते थे और एक शिष्य भी उनकी सेवा करने के लिये सदैव उनके साथ रहा करता था|

साईं बाबा के प्रति गौली बुवा के मन में गहन श्रद्धा और विश्वास थाएक बार शिरडी में जब बाबा के दर्शन करने आये तो बाबा को एकटक देखते हुए अचानक ही कहने लगेये तो पंढरीनाथ हैंये विठ्ठल के अवतार हैंवही विठ्ठल जो अनाथों के नाथदीनदयालु और दिनों के स्वामी हैं|गौली बुवा ने पंढरी यात्रा के बाद कई बार साईं बाबा में पंढरीनाथ के दर्शन किये थेइसके अलावा गौली बुवा के अतिरिक्त भी अन्य भक्तों ने साईं बाबा में अपने-अपने ईष्टदेव के दर्शन किये थेइससे यही सिद्ध होता है कि साईं बाबा दत्तात्रेय के अवतार हैं|


कल चर्चा करेंगे..विट्ठल का दर्शन देना

==ॐ साईं श्री साईं जय जय साईं ==
बाबा के श्री चरणों में विनती है कि बाबा अपनी कृपा की वर्षा सदा सब पर बरसाते रहें । 

Monday, 5 October 2020

श्री साईं लीलाएं - बाबा जी का अमृतोपदेश

 ॐ सांई राम


कल हमने पढ़ा था.. रोहिला के प्रति प्रेम   

श्री साईं लीलाएं - बाबा जी का अमृतोपदेश

एक समय की बात है जब दोपहर की आरती के बाद भक्त अपने-अपने घरों की ओर लौट रहे थे तो तब बाबा ने उन्हें अपनी सुमधुर वाणी में अमृतोपदेश देते हुए कहा - "तुम कहीं भी रहोकुछ भी करोलेकिन इतना याद रखो कि तुम जो कुछ भी करते होतुम्हारी हरेक करतूत की खबर सदैव मुझे रहती हैमैं ही सब जीवों का स्वामी हूं और मैं सबके हृदयों में वास करता हूंसंसार के जितने भी जड़-चेतन जीव हैंवे मेरे ही उदर में समाए हुए हैंइस समस्त ब्रह्माण्ड का नियंत्रण व संचालन करने वाला भी मैं ही हूंमैं ही संसार की उत्पत्ति करता हूंमैं ही इसका पालन-पोषण करता हूं और मैं ही इसका संहार करता हूंलेकिन जो लोग मेरी भक्ति करते हैंउन्हें कोई भी कुछ भी संकट नहीं आयेगालेकिन जो मेरी भक्ति से विमुख रहते हैंउसे माया अपने मकड़जाल में फंसा लेती हैइस संसार में सारे जीव-जंतुसंसार में दृश्यमानविद्यमान जो कुछ भी हैवह सब मेरा ही प्रतिरूप है|"बाबा आगे कहते हैं - "इन कथाओं को एकाग्र भाव सेप्रेम और श्रद्धा-विश्वास रखकर सुनने और स्मरण करने तथा व्यक्ति का रहस्य समझने पर जन्म-जन्मान्तरों के दु:खों से मुक्ति प्राप्त होगीसाईं कृपा का बादल तुम पर बरसेगा और शुद्ध ज्ञान (आत्म-ज्ञान) तुम्हारे अंदर जागेगाव्रत और नियमन करोउपवास करके शरीर को कष्ट मत दोतीर्थ-तीर्थ भटकने की भी आवश्यकता नहीं हैसिर्फ साईं बाबा की लीलाओं का श्रवण करोऐसा करने से तुम्हारे अज्ञान का नाश होकर मुक्ति का मार्ग खुलेगा|
कल चर्चा करेंगे..गौली बुआ की कथा

ॐ साईं श्री साईं जय जय साईं

बाबा के श्री चरणों में विनती है कि बाबा अपनी कृपा की वर्षा सदा सब पर बरसाते रहें । 

For Donation

For donation of Fund/ Food/ Clothes (New/ Used), for needy people specially leprosy patients' society and for the marriage of orphan girls, as they are totally depended on us.

For Donations, Our bank Details are as follows :

A/c - Title -Shirdi Ke Sai Baba Group

A/c. No - 200003513754 / IFSC - INDB0000036

IndusInd Bank Ltd, N - 10 / 11, Sec - 18, Noida - 201301,

Gautam Budh Nagar, Uttar Pradesh. INDIA.