शिर्डी के साँई बाबा जी की समाधी और बूटी वाड़ा मंदिर में दर्शनों एंव आरतियों का समय....

"ॐ श्री साँई राम जी
समाधी मंदिर के रोज़ाना के कार्यक्रम

मंदिर के कपाट खुलने का समय प्रात: 4:00 बजे

कांकड़ आरती प्रात: 4:30 बजे

मंगल स्नान प्रात: 5:00 बजे
छोटी आरती प्रात: 5:40 बजे

दर्शन प्रारम्भ प्रात: 6:00 बजे
अभिषेक प्रात: 9:00 बजे
मध्यान आरती दोपहर: 12:00 बजे
धूप आरती साँयकाल: 7:00 बजे
शेज आरती रात्री काल: 10:30 बजे

************************************

निर्देशित आरतियों के समय से आधा घंटा पह्ले से ले कर आधा घंटा बाद तक दर्शनों की कतारे रोक ली जाती है। यदि आप दर्शनों के लिये जा रहे है तो इन समयों को ध्यान में रखें।

************************************

Saturday, 8 June 2013

श्री गुरु नानक देव जी – साखियाँ - गाय, भैंसे चारनी व खेत हरा करना

श्री गुरु नानक देव जी – साखियाँ



गाय, भैंसे चारनी व खेत हरा करना

गुरु जी (श्री गुरू नानक देव जी) को चुपचाप व बिना किसे काम के घर में लेटे रहते देख महिता जी ने उन्हें किसे काम धंधे में लगाने कि सोची| पिता का कहना मान कर अगले ही दिन गुरु जी गाये भेसों को चराने ले गए| तीन चार दिन तो सब ठीक चलता रहा, सुबह पशुओं को बाहर ले जाते व सांयकाल वापिस घर ले आते|

एक दिन गुरु जी पशुओं को चरते छोड़ आप अंतर ध्यान हो गए, अपनी ही मौज में बैठे रहे| पास में ही जिमींदार का हरा भरा खेत था| पशुओं ने वहां पहुँच कर बहुत नुकसान किया| कुछ मुँह से चर लिया तथा कुछ पैरों के नीचे दबा दिया| इतने में खेत का मालिक भी आ गया वह पशुओं को घेर कर राये बुलार के पास ले गया|

जिमींदार ने राये बुलार के आगे पुकार कि आपके पटवारी के लड़के ने मेरा खेत उजाड दिया है, मेरा हरजाना दिलवाया जाये| तब गुरु जी (श्री गुरू नानक देव जी) ने सहज भाव से कहा राये जी! अपना आदमी भेज कर देख लो, इसकी कोई खेती नहीं उजड़ी, अगर उजड़ी भी होगी तो हम हरजाना भर देंगे| राये बुलार ने आदमी भेज कर पता लगाया कि खेती तो ज्यों कि त्यों खड़ी है| जिमींदार व अन्य लोग गुरु जी का यह कौतक देखकर दंग रह गए व गुरु जी कि शलाघा करने लगे|


Friday, 7 June 2013

श्री गुरु नानक देव जी – साखियाँ - साँप का छाया देना

श्री गुरु नानक देव जी – साखियाँ



साँप का छाया देना


गुरु जी (श्री गुरू नानक देव जी) अब रोजाना ही पशुओं को जंगल जूह में ले जाते| एक दिन वैसाख के महीने में
दुपहर के समय पशुओं को छाओं के नीचे बिठा कर गुरु जी लेट गए| सूरज के ढलने के साथ वृक्ष कि छाया भी ढलने लगी| आप के मुख पर सूरज कि धूप देखकर एक सफ़ेद साँप अपने फन के साथ छाया करके बैठ गया| उस समय राये बुलार अपने साथियोँ के संग शिकार खेल कर वापिस अपने घर को जा रहा था|

राये बुलार ऐसे कौतक को देखकर दंग रह गया और गुरु जी को नमस्कार करते हुए मन ही मन गुरु जी (श्री गुरू नानक देव जी) की महिमा गाता हुआ अपने घर की ओर रवाना हो गया|

Thursday, 6 June 2013

श्री साई सच्चरित्र - अध्याय 26

ॐ सांई राम

बाबा जी की कृपा आप सब पर बनी रहे...

आप सभी को शिर्डी के साईं बाबा ग्रुप की ओर से साईं-वार की हार्दिक शुभ कामनाएं, हम प्रत्येक साईं-वार के दिन आप के समक्ष बाबा जी की जीवनी पर आधारित श्री साईं सच्चित्र का एक अध्याय प्रस्तुत करने के लिए श्री साईं जी से अनुमति चाहते है | हमें आशा है की हमारा यह कदम घर घर तक श्री साईं सच्चरित्र का सन्देश पंहुचा कर हमें सुख और शान्ति का अनुभव करवाएगा, किसी भी प्रकार की त्रुटी के लिए हम सर्वप्रथम श्री साईं चरणों में क्षमा याचना करते है |

श्री साई सच्चरित्र - अध्याय 26
....................

भक्त पन्त, हरिश्चन्द्र पितले और गोपाल आंबडेकर की कथाएँ
------------------------


Wednesday, 5 June 2013

श्री गुरु नानक देव जी – साखियाँ - वृक्ष की छाया खड़ी करनी

श्री गुरु नानक देव जी – साखियाँ



वृक्ष की छाया खड़ी करनी
 
एक दिन दुपहर ढलने के समय गुरु जी (श्री गुरू नानक देव जी) पेड़ की छाया के नीचे चादर बिछा कर लेट गए| उस वक्त सब वृक्षों की छाया ढल चुकी थी पर जहां गुरु जी (श्री गुरू नानक देव जी) लेटे हुए थे उस वृक्ष का परछावां ज्यों का त्यों खड़ा था| दो घडी उपरांत अपने खेतों की रखवाली करता राये बुलार आ उधर आ गया गया| यह दृश्य देख कर वह दंग रह गया| उसने अपने आदमियों को बताया कि जिस वृक्ष के नीचे गुरु जी लेटे है उस वृक्ष का परछावां जियों का तियों खड़ा है, यह निशचय ही कोई अवतार है जो अपने आप को प्रगट नहीं करना चाहते|

इस से पहले भी यह कौतक देखा था कि एक साँप अपने फन के साथ छाया कर रहा था| इस प्रकार कि शलाघा करता हुआ राये बुलार आप जी को नमस्कार करता हुआ घर कि और बढ़
गया|





Tuesday, 4 June 2013

श्री गुरु नानक देव जी – साखियाँ - सच्चा सौदा करना

श्री गुरु नानक देव जी – साखियाँ

 
सच्चा सौदा करना
एक दिन महिता जी ने गुरु जी (श्री गुरू नानक देव जी) को 20 रुपए देकर सच्चा सौदा करके लाने को कहा तथा भाई बाले को भी साथ भेज दिया| गुरु जी (श्री गुरू नानक देव जी) पिता जी को सति बचन कह कर 20 रूपए लेकर तथा भाई बाले को साथ लेकर सच्चे सौदे के लिए निकल पड़े| जाते -२ रास्ते में चुह्रड़काने गाँव में आप ने साधु मण्डली को देखा जो कि सारी ही भजन सिमरन में लगी हुई थी| तभी गुरु जी (श्री गुरू नानक देव जी) ने बाले को कहा कि हमें यहाँ खरा सौदा प्राप्त हुआ है, इसे छोड़ना नहीं चाहिए|

यह विचार करके गुरु जी ने चुहड़काने नगर में 20 रुपए कि रसद आटा, चावल, मिष्टान व घी आदि लेकर संत मण्डली के पास पहुँचे और उन्हें भेट कर दिया और सभी संतो को प्रणाम करते हुए भाई बाले के साथ खाली हाथ ही तलवंडी कि और मुड गए|

Monday, 3 June 2013

श्री गुरु नानक देव जी – साखियाँ - नवाब व काजी के साथ नमाज पढ़ने का कौतक

श्री गुरु नानक देव जी – साखियाँ

 
नवाब व काजी के साथ नमाज पढ़ने का कौतक




 गुरु जी के बचन, "ना कोई हिंदू न मुसलमान" को जब काजी ने सुना तो उसने गुरु जी से इसका भाव पूछा| गुरु जी (श्री गुरू नानक देव जी) ने कहा इस समय अपने धरम के अनुसार चलने वाला ना कोई सच्चा हिंदू है ना ही कोई अपने दीन मजहब के अनुसार चलने वाला सच्चा मुसलमान है| काजी ने जब यह सारी बात नवाब को बताई तो नवाब ने गुरु जी (श्री गुरू नानक देव जी) को बुलाकर कहा कि अगर आपकी नजर में हिंदू मुसलमान एक बराबर है तो आज जुम्मे का दिन है, आप मेरे साथ चलकर मसीत में नमाज पढ़े| गुरु जी उनकी यह बात मानते हुए मसीत में साथ चल पड़े| नवाब, काजी व और लोग नमाज पड़ते रहे पर गुरु जी चुपचाप खड़े रहे|

नमाज उपरांत आप जी से पूछा गया कि आप ने नमाज क्यों नहीं पड़ी? आप ने बताया कि नवाब साहिब काबुल में घोड़े खरीद रहे थे और काजी यह सोच रहे थे कि उनकी नयी सुई घोड़ी का बच्चा कही कुएँ में ना गिर पड़े ,शीघ्रता से घर पहुँचा जाये| फिर आप ही बताएँ हम नमाज किसके साथ पड़ते? तन रूप में हम सभी यहाँ माजूद थे, पर मन रूप में आप गैरहाजर थे| आपका मन निजी कार्यों में लगा हुआ था और हम तो आपके मन कि देखभाल ही करते रह गए| आपके यह बचन सुनकर काजी और नवाब दोनों ने आपको नमस्कार कि और अपनी भूल कि क्षमा मांगी|

Sunday, 2 June 2013

श्री गुरु नानक देव जी – साखियाँ - मलक भागो का ब्रह्म भोज व उसको उपदेश

श्री गुरु नानक देव जी – साखियाँ



मलक भागो का ब्रह्म भोज व उसको उपदेश

मलक भागो ने ब्रह्म भोज करके सभ खत्रियों, ब्राह्मणों और साधुओं, फकीरों व नगर वासियों को बुलाया| उसने यह निमंत्रण गुरु जी (श्री गुरू नानक देव जी) को भी दिया| पर गुरु जी (श्री गुरू नानक देव जी) ने इस भोज में आने को मना कर दिया| बार -२ बुलाने पर गुरु जी वहाँ पहुँचे| मलक भागो ने भोज पर ना आने का कारण पूछा? तब गुरु जी (श्री गुरू नानक देव जी) ने कहा, भाई लालो कि कमाई का भोजन दूध के समान है, पर तेरी कमाई का भोजन लहू के समान है| वहाँ पर उपस्थित सभी लोगों ने भोजन ग्रहण कर लिया, लेकिन गुरु जी ने नहीं किया| गुरु जी ने कहा कोई सूझ बुझ वाला व्यक्ति दूध को छोड़कर लहू नहीं पीता|

मलक भागो ने इस बात का सबूत गुरु जी से माँगा| तब गुरु जी (श्री गुरू नानक देव जी) ने ने दाहिने हाथ में भाई लालो कि सूखी रोटी ली और भागो के भोज से पूरी मंगवाई| तब गुरु जी (श्री गुरू नानक देव जी) ने दोनों हाथों कि मुठियों को जोर से दबाया| लालो कि सूखी रोटी में से दूध और मलक भागो के भोजन से लहू के तुपके गिरे| गुरु जी (श्री गुरू नानक देव जी) कि इस दैवी शक्ति से सारी सभा हैरान हो गयी| मलक भागो मन ही मन में परेशान हो गया और गुरु जी (श्री गुरू नानक देव जी) से क्षमा माँगी
|

उसने गुरु जी (श्री गुरू नानक देव जी) को नेक कमाई करने का वायदा भी किया
|




For Donation

For donation of Fund/ Food/ Clothes (New/ Used), for needy people specially leprosy patients' society and for the marriage of orphan girls, as they are totally depended on us.

For Donations, Our bank Details are as follows :

A/c - Title -Shirdi Ke Sai Baba Group

A/c. No - 200003513754 / IFSC - INDB0000036

IndusInd Bank Ltd, N - 10 / 11, Sec - 18, Noida - 201301,

Gautam Budh Nagar, Uttar Pradesh. INDIA.